NDTV Khabar

10वीं क्लास की लड़की की हो रही थी 38 साल के दिव्यांग व्यक्ति से शादी, फिल्मी अंदाज में रोकी गई

10वीं कक्षा की परीक्षा उत्तीर्ण करने वाली एक बच्ची को 38-वर्षीय दिव्यांग व्यक्ति के साथ शादी करने के लिए हां कहनी पड़ी, क्योंकि उसके माता-पिता ने पिछले कई महीनों से घर का किराया अदा नहीं किया था.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
10वीं क्लास की लड़की की हो रही थी 38 साल के दिव्यांग व्यक्ति से शादी, फिल्मी अंदाज में रोकी गई

मजबूरी में 38 वर्षीय दिव्यांग व्यक्ति से शादी करने जा रही थी 10वीं क्लास की लड़की.

10वीं कक्षा की परीक्षा उत्तीर्ण करने वाली एक बच्ची को 38-वर्षीय दिव्यांग व्यक्ति के साथ शादी करने के लिए हां कहनी पड़ी, क्योंकि उसके माता-पिता ने पिछले कई महीनों से घर का किराया अदा नहीं किया था. मैलारदेवपल्ली पुलिस थानाक्षेत्र के अंतर्गत आने वाले काटेदान इलाके में पुलिस और बाल कल्याण अधिकारियों ने बिल्कुल फिल्मी अंदाज़ में ऐन वक्त पर मंदिर पहुंचकर बच्ची को बचाया, जब उसकी शादी की जा रही थी. दिव्यांग व्यक्ति रमेश गुप्ता, उसके पिता चेन्नैया तथा मां पल्ली रामचंद्रम्मा के खिलाफ बाल विवाह एक्ट के तहत मामला दर्ज कर लिया गया है.

एक तरफा प्यार में आशिक ने युवती को जिंदा जलाया, मौत से लड़ रही है लड़की

हाल ही में 8.3 अंकों के साथ 10वीं की परीक्षा पास करने वाली बच्ची का परिवार मूल रूप से ओडिशा के बालासोर का रहने वाला है, लेकिन बताया जाता है कि वे चार वर्ष पहले हैदराबाद आकर बस गए थे. बच्ची के माता-पिता मज़दूर के तौर पर छोटा-मोटा काम करते थे, और उनकी संतानों में इस बच्ची से छोटा एक पुत्र और एक पुत्री भी शामिल हैं.

जुमे की नमाज़ नहीं पढ़ने पर रिश्तेदारों ने की नाबालिग़ लड़की की हत्‍या

पिछले कुछ समय से बच्ची के परिजन अपने मकान मालिक से वित्तीय सहायता लेते आ रहे थे, और उन पर इस बात के लिए दबाव डाला जा रहा था कि वे अपनी बच्ची की शादी रमेश से करवा दें, जो चल-फिर नहीं सकता है. रमेश मैकेनिक के तौर पर दुकान चलाता है.

पूर्व सीएम की रिश्तेदार डॉक्टर से अभद्रता, तीन माह बाद मामला दर्ज

मैलारदेवपल्ली पुलिस थाने में इंस्पेक्टर जगदीश्वर ने NDTV को बताया, "वे अपने बेटे के लिए सहारा चाहते थे, और उनकी मांग थी कि या तो बच्ची का विवाह उनके बेटे से करवा दिया जाए, या बच्ची का परिवार वह रकम लौटाए, जो उन्हें मकान मालिक को चुकानी थी..."

टिप्पणियां
हैदराबाद : मैं कहती रही कि डैडी यह मत करो, लेकिन...

बच्ची का पिता इस बात से काफी परेशान था, और घर छोड़कर कहीं चला गया था, और बच्ची की मां के मुताबिक, उसके पास शादी के लिए सहमति देने के अलावा कोई विकल्प नहीं बचा था.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement