NDTV Khabar

जुनैद के कत्ल के आरोपी का कबूलनामा - हत्या अचानक आए गुस्से के चलते की

आरोपी ने कहा- सीट देने के लिए कहने पर लड़का नहीं हटा तो अधेड़ व्यक्ति ने मुल्ले कहकर दो थप्पड़ लगा दिए

5.1K Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
जुनैद के कत्ल के आरोपी का कबूलनामा - हत्या अचानक आए गुस्से के चलते की

जुनैद की हत्या के मुख्य आरोपी ने अपना गुनाह कबूल किया है.

खास बातें

  1. आरोपी ने कहा- अधेड़ व्यक्ति को मुस्लिम लड़कों ने थप्पड़-मुक्के मारे
  2. आरोपी के अनुसार मुस्लिम लड़कों ने बेल्ट मारकर उसका सर फोड़ दिया
  3. कहा- गुस्से में अपने बैग से चाकू निकालकर जुनैद की हत्या कर दी
नई दिल्ली: जुनैद की हत्या के आरोप में गिरफ्तार मुख्य आरोपी ने खुलासा किया है कि हत्या से पहले उसने जुनैद और उसके भाइयों पर साम्प्रदायिक टिप्पणी की. हालांकि हत्या उसने अचानक आए गुस्से के चलते की.

जुनैद की हत्या के आरोप में गिरफ्तार आरोपी का बयान पुलिस ने दर्ज कर लिया है. पुलिस की पूछताछ में आरोपी ने कहा है कि ''मैं नेशनल कृषि म्यूजियम में गार्ड की नौकरी करता हूं. 22 जून को ड्यूटी खत्म होने के बाद में शिवाजी ब्रिज से मथुरा में सवार हुआ. ट्रेन में तीन-चार मुस्लिम लड़के टोपी पहने हुए थे. जब गाड़ी ओखला स्टेशन पर रुकी तो एक अधेड़ उम्र का आदमी भी इसी डिब्बे में आया और मुस्लिम लड़कों से सीट देने के बारे में कहा. उनमें से एक लड़का जो खड़ा था, वह नहीं हटा, तो अधेड़ व्यक्ति ने मुल्ले कहकर दो थप्पड़ लगा दिए. इससे मुस्लिम लड़के अकड़ गए. मुझे भी मुसलमान पर गुस्सा आ गया और मैंने उस अधेड़ उम्र के व्यक्ति और कुछ अन्य यात्रियों ने मिलकर उन मुस्लिम लड़कों को उनके धर्म के प्रति काफी अपशब्द कहकर उनको बुरी तरह मारा-पीटा.''

आरोपी के मुताबिक ''मारपीट के बाद मुस्लिम लड़के तुगलकाबाद स्टेशन पर उतरकर दूसरे डिब्बे में चले गए. जब गाड़ी अन्य स्टेशन पर रुकती हई बल्लभगढ़ पहुंची तो सात-आठ मुस्लिम लड़के जिनमें वह मुस्लिम लड़के भी थे, आए और हमारे डिब्बे में कौन सा है, छोड़ेंगे नहीं कहकर ऊंची आवाज में धक्का-मुक्की करने लगे. उस अधेड़ हिन्दू को पहचानकर उसे थप्पड़-मुक्का मारने लगे. तब उस व्यक्ति के साथ खड़े तीन लड़के, जो न्यू टाउन स्टेशन से चढ़े थे, उन्होंने भी मुस्लिम लड़कों को मारा-पीटा और मुल्ले कहकर ट्रेन से उतरने नहीं दिया. तब मैं खतरा भांपकर यात्रियों की भीड़ में छुपने लगा तो उनमें से एक लड़के ने मुझे पहचान कर कहा ये रहा.''

आरोपी का दावा है कि मुस्लिम लड़कों ने बेल्ट मारकर उसका सर फोड़ दिया उसके बाद गुस्से में उसने अपने बैग से चाकू निकालकर जुनैद की हत्या कर दी. उसके बाद असावती रेलवे स्टेशन पर उल्टी तरफ से उतरकर स्टेशन से बाहर आ गया. बाहर एक बाइक में लिफ्ट लेकर आरोपी अपने मामा के गांव जटौला चला गया और वहीं चाकू छिपा दिया. जबकि खून से सने कपड़े अपने गांव में छिपा दिए.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement