NDTV Khabar

शख़्स ने बीच सड़क पर पत्नी को दिया तीन तलाक, वजह जानकर आप भी रह जाएंगे हैरान

मामला उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद जिले का है. यहां एक शख़्स ने अपनी पत्नी को बीच सड़क पर सिर्फ इसलिये तीन तलाक दे दिया क्योंकि वह कथित तौर पर बहस कर रही थी.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
शख़्स ने बीच सड़क पर पत्नी को दिया तीन तलाक, वजह जानकर आप भी रह जाएंगे हैरान

घटना सामने आने के बाद पुलिस जांच में जुट गई है. (प्रतीकात्मक चित्र)

मुरादाबाद :

तीन तलाक बिल ने भले ही कानून का रूप ले लिया हो, लेकिन इस तरह की घटनाएं रुकने का नाम नहीं ले रही हैं. ताजा मामला उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद जिले का है. यहां एक शख़्स ने अपनी पत्नी को बीच सड़क पर सिर्फ इसलिये तीन तलाक दे दिया क्योंकि वह कथित तौर पर बहस कर रही थी. इस घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया है. वायरल  वीडियो में शख़्स अपनी पत्नी के भाई के साथ लड़ता हुआ दिखाई दे रहा है. हालांकि वीडियो से लड़ने की वजहों का पता नहीं चल पाया है. वीडियो में महिला यह कहती दिख रही है कि उसने पहले पुलिस से संपर्क किया और अपने पति के खिलाफ शिकायत की. दूसरी तरफ, पुलिस अधिकारियों का कहना है कि वे दंपति की पहचान करने के साथ ही घटना के पीछे की सच्चाई का पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं.  

राज्यसभा से पास हुआ तीन तलाक बिल, समर्थन में 99, विरोध में 84 वोट पड़े


आपको बता दें कि संसद ने मंगलवार को मुस्लिम पुरुषों द्वारा अपनी पत्नियों को तीन तलाक कहकर छोड़ने की प्रथा को एक बिल पारित करने के साथ खत्म कर दिया था. इसके बाद  कल राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद (Ram Nath Kovind) ने भी तीन तलाक बिल (Triple Talaq bill) को मंजूरी दे दी. इस मंजूरी के साथ की तीन तलाक कानून अस्तित्व में आ गया है. यह कानून 19 सितंबर 2018 से लागू माना जाएगा. बिल के कानून बनने के बाद 19 सितंबर 2018 के बाद जितने भी मामले में तीन तलाक से संबंधित आए हैं, उन सभी का निपटारा इसी कानून के तहत किया जाएगा. 

टिप्पणियां

तीन तलाक बिल में क्या हैं प्रावधान:

  • तुरंत तीन तलाक यानी तलाक-ए-बिद्दत को रद्द और गैर कानूनी बनाना
  • तुरंत तीन तलाक को संज्ञेय अपराध मानने का प्रावधान, यानी पुलिस बिना वारंट गिरफ़्तार कर सकती है
  • तीन साल तक की सजा का प्रावधान है
  • यह संज्ञेय तभी होगा जब या तो खुद महिला शिकायत करे या फिर उसका कोई सगा-संबंधी
  • मजिस्ट्रेट आरोपी को जमानत दे सकता है. जमानत तभी दी जाएगी, जब पीड़ित महिला का पक्ष सुना जाएगा
  • पीड़ित महिला के अनुरोध पर मजिस्ट्रेट समझौते की अनुमति दे सकता है
  • पीड़ित महिला पति से गुज़ारा भत्ते का दावा कर सकती है
  • इसकी रकम मजिस्ट्रेट तय करेगा
  • पीड़ित महिला नाबालिग बच्चों को अपने पास रख सकती है. इसके बारे में मजिस्ट्रेट तय करेगा (इनपुट-आईएएनएस से भी)

VIDEO: तीन तलाक बिल पास होने पर बोले कानून मंत्री- ये दिन ऐतिहासिक है​



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement