NDTV Khabar

पहले 3 करोड़ 20 लाख का बीमा खरीदा, पैसा हड़पने के लिए युवकों ने रची ऐसी ख़ौफनाक साजिश कि...

हरियाणा के पलवल जिले में एक चौंकाने वाला मामला सामने आया है. यहां बीमे की राशि हड़पने के लिए दो युवकों ने पहले तो खुद को मरा दिखाया.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
पहले 3 करोड़ 20 लाख का बीमा खरीदा, पैसा हड़पने के लिए युवकों ने रची ऐसी ख़ौफनाक साजिश कि...

प्रतिकात्मक फोटो

मथुरा:

हरियाणा के पलवल जिले में एक चौंकाने वाला मामला सामने आया है. यहां बीमे की राशि हड़पने के लिए दो युवकों ने पहले तो खुद को मरा दिखाया. इसके बाद अपने ही 2 दोस्तों की जिंदा जलाकर हत्या कर दी. दोनों आरोपी शख़्स मंडकोला गांव के रहने वाले हैं. जानकारी के मुताबिक शुक्रवार की सुबह बरसाना-छाता मार्ग पर आजनौख गांव के नजदीक एक मारुति ईको कार पूरी तरह से जली हुई अवस्था में मिली. कार में दो नरकंकाल भी मिले. पहली बार देखने पर ऐसा लगा कि शॉर्ट सर्किट के चलते कार में आग लग गई  होगी और कार में सवार दो व्यक्ति उसमें जलकर मर गए. दोनों शव इतनी बुरी तरह से जले थे कि उनकी कोई शिनाख्त नहीं हो पा रही थी. मामले की जांच में जुटी पुलिस टीम किसी नतीजे पर पहुंचती, इससे पहले ही अगले दिन पलवल पुलिस की एक टीम मथुरा पहुंच गई. उन्होंने मंडकोला गांव के दो युवक जो गोवर्धन आए थे, उनके गायब होने की जानकारी दी. पलवल पुलिस ने जिस कार का जिक्र किया वह वही जली कार निकली, लेकिन पलवल पुलिस के एक तथ्य ने सबको चौंका दिया.

बीमे के लालच में BJP नेता ने नौकर की हत्या कर खुद को मरा घोषित किया, अंडरवियर ने पकड़वाया


दरअसल, कार में दो नहीं चार युवक सवार थे, जो मंडकोला से गोवर्धन के लिए निकले थे, लेकिन मौके पर दो के ही शव मिले. इसके बाद पुलिस ने आगे की जांच शुरू की और कार मालिक के मोबाइल की लोकेशन व कॉल डिटेल मालूम कर उसका पता लगाया तो वह जिंदा मिला. एसएसपी सत्यार्थ अनिरुद्ध पंकज ने बताया कि पूरी साजिश लालाराम (35) पुत्र झम्मन लाल ने रची थी. उसने अपने जिगरी दोस्त और रोहताश (34) पुत्र बुद्धि के साथ योजना बनाकर एक माह महीने पहले जनवरी में तीन करोड़ 20 लाख रुपए की बीमा पॉलिसी खरीदी और फिर गुरुवार को मथुरा घूमने का प्रोग्राम बना लिया. वे दोनों खुद को मरा दिखाकर घरवालों से क्लेम कराकर बीमा राशि हड़पना चाहते थे. 

मध्य प्रदेश के रतलाम में एंबुलेंस नहीं होने की वजह से गई मासूम की जान

उन्होंने अपनी लाशें बरामद कराने के लिए गांव के दो अन्य दोस्त लेखन (38) पुत्र राम सिंह और कुंवरपाल (40) पुत्र गंगासहाय को साथ ले लिया. गुरुवार की रात घर लौटते समय योजनानुसार उन दोनों को नशे में धुत कर कार में आग लगा दी और उसके बाद वे फरार हो गए.हालांकि जब वे दोनों वापस घर नहीं पहुंचे और उनके मोबाइल फोन की लोकेशन मथुरा तक मिली और उसके बाद फोन बंद हो गया तो लालाराम के बड़े भाई चिरंजीलाल ने उनकी गुमशुदगी दर्ज करा दी। लेकिन जब जांच में यह पता चला कि उन्होंने हाल ही में बीमा कराया था तो पुलिस को शक हो गया. दोनों के मोबाइल नंबर सर्विलांस पर लेकर पुलिस ने उनकी हर हरकत का पता लगाया और लालाराम को दबोच लिया. इसके बाद रविवार को लालाराम से ही पूरी योजना उगलवा ली. (इनपुट-भाषा से)

मध्यप्रदेश में बीजेपी के एक और कार्यकर्ता की हत्या, चेहरा जलाने की कोशिश भी की

VIDEO : चार दिन में दो बीजेपी नेताओं की हत्या

टिप्पणियां

 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement