सीनियर लगातार जाति को लेकर करते थे रैगिंग और टॉर्चर, तंग आकर डॉक्टर ने की सुसाइड

मुंबई के नायर अस्पताल की मेडिकल छात्रा पायल तड़वी ने कथित तौर पर अपने तीन सीनियरों की ओर से बार-बार होने वाले जातीय टिप्पणी से तंग आकर खुदखुशी कर ली.

सीनियर लगातार जाति को लेकर करते थे रैगिंग और टॉर्चर, तंग आकर डॉक्टर ने की सुसाइड

डॉक्टर ने किया सुसाइड

खास बातें

  • मेडिकल छात्रा ने की आत्महत्या
  • मेडिकल छात्रा ने की आत्महत्या
  • तीन वरिष्ठ सहकारियों पर है प्रताड़ित करने का आरोप
नई दिल्ली:

मुंबई के नायर अस्पताल की मेडिकल छात्रा पायल तड़वी ने कथित तौर पर अपने तीन सीनियरों की ओर से बार-बार होने वाले जातीय टिप्पणी से तंग आकर खुदखुशी कर ली. घरवालों का आरोप है कि अस्पताल प्रशासन से पीड़ित ने इस परेशानी के बारे में बताया भी था लेकिन कुछ नहीं हुआ.

बिहार के बेगूसराय में प्रेमी जोड़े को कुछ लड़कों ने लाठी-डंडो से पीटा, कन्हैया कुमार ने पोस्ट लिखकर निकाली भड़ास

मुंबई के नायर अस्पताल में मई 2018 में पायल तड़वी का एडमिशन हुआ था और वो इसी अस्पताल में बतौर रेजिडेंट डॉक्टर तैनात थी. एडमिशन आरक्षित कोटे से होने के कारण उसके तीन सीनियर सहयोगी इस बार पर उसे प्रताड़ित करते थे और बार-बार इसका जिक्र भी करते थे. यह सिलसिला कई महीनों तक चला. छात्रा ने इसकी शिकायत हॉस्टल के अधिकारियों से भी की थी लेकिन हुआ कुछ नहीं. 22 मई को कथित तौर पर इस परेशानी से तंग आकर उसने आत्महत्या कर ली. परिवार अब न्याय की मांग कर रहा है.

मामले के तीन आरोपी 22 मई से ही फरार हैं. पीड़ित के सहयोगियों के अनुसार एडमिशन के बाद से ही सीनियर लगातार रैगिंग और टॉर्चर कर रहे थे. और शिकायत के बावजूद कोई सहायता नहीं मिलने के कारण हालात और खराब हो गए. हादसे के बाद कई छात्रों ने इसके खिलाफ अस्पतालों में प्रदर्शन भी किया.


पिछली बार की तुलना में इस बार ज्यादा करोड़पति उम्मीदवार चुनकर पहुंचे लोकसभा, कमलनाथ के बेटे हैं सबसे अमीर

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


अस्पताल के अधिकारियों ने जहां इस पूरे मामले की जांच के आदेश दे दिए हैं तो वहीं पुलिस ने तीनों आरोपियों के खिलाफ धारा 306 और एससी एसटी कानून के तहत मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है.