NDTV Khabar

वृद्ध ने मजदूरी मांगी तो पैर की उंगलियां काट दीं और हाथ का अंगूठा तोड़ दिया

रोजगार के लिए महाराष्ट्र के नागपुर गए ओडिशा के नुआपाड़ा जिले के निवासी मजदूर पर हुए जुल्म, साथ गए लोगों ने ही की वारदात

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
वृद्ध ने मजदूरी मांगी तो पैर की उंगलियां काट दीं और हाथ का अंगूठा तोड़ दिया

बुजुर्ग मजदूर चमरू पहारिया अस्पताल में भर्ती है.

खास बातें

  1. मजदूर को उंगलियां काटने के बाद ट्रेन की पटरी पर फेंका
  2. मजदूर के बेटे पर केस वापस लेने के लिए दवाब डाला जा रहा
  3. मजदूर के परिवार को मारने की धमकी दी जा रही
नई दिल्ली:

मजदूरी मांगने पर एक 60 साल के बुजुर्ग के एक पैर की उंगलियां काट दी गईं और हाथ का अंगूठा तोड़ दिया गया. इसके बाद उसे रेल की पटरी पर फेंक दिया गया. पुलिस ने समय रहते उसे उठाकर अस्पताल में भर्ती किया. यह वारदात ओडिशा के मजदूर के साथ नागपुर में हुई. दो माह अस्पताल में गुजारने के बाद वृद्ध मजदूर जब अपने गांव पहुंचा तब उसके परिवार को इस घटना के बारे में पता चला.  

पीड़ित मजदूर चमरू पहारिया ओडिशा के नुआपाड़ा जिले का निवासी है. यह जिला भुवनेश्वर से करीब 460 किलोमीटर दूर है और ओडिशा के अविकसित ज़िलों में से एक है. ओडिशा के गांवों से नौकरी की खोज में लोग दूसरे राज्यों में जाते हैं. नुआपाड़ा जिले के टिकरपडा गांव के 60 साल के चमरू पहारिया करीब तीन महीने पहले अपना गांव छोड़कर गांव के ही दो लोगों के साथ नागपुर गए. चमरू पहारिया को लगा था कि नागपुर में उनकी किस्मत बदल जाएगी. नौकरी करके अपना घर चला लेंगे. लेकिन किसे पता था चमरू पहारिया की किस्मत में कुछ और लिखा हुआ है. कुछ दिन काम करने के बाद चमरू ने जब अपनी मजदूरी मांगी तो उनके दाहिने पैर की पांचों उंगलियां पूरी तरह काट दी गईं. उनके हाथ के अंगूठे को भी तोड़ दिया गया. इसके बाद उन्हें घायल अवस्था में रेल पटरी पर छोड़ दिया गया. कुछ पुलिस वालों ने उन्हें नागपुर के सरकारी अस्पताल में एडमिट करवाया.

चमरू का दो महीने तक नागपुर में इलाज चला लेकिन फिर भी उनके परिवार को कुछ पता नहीं चल पाया. दो महीने बाद चमरू जब घर लौटे तब उनकी हालात के बारे में पता चला. चमरू सबसे पहले तो अपने ससुराल पहुंचे फिर अपने घर. चमरू के बेटे तुलाराम ने एनडीटीवी को बताया कि जो लोग साथ ले गए थे उन्हीं लोगों ने उसके पिता की यह हालात की है.  तुलाराम का कहना है जब चमरू पहारिया ने मजदूरी मांगी तो शराब के नशे में उसके साथ ऐसा किया गया. चमरू पहारिया अभी नुआपाड़ा के सरकारी अस्पताल में एडमिट है. नुआपाड़ा के विधायक राजेन्द्र ढोलकिया अस्पताल में चमरू से मिलने गए और उन्हें 5000 रुपये की मदद भी दी. नुआपाड़ा के जिलापाल ने अपनी तरफ से दो बोतल खून का इंतज़ाम भी किया.


एंबुलेंस का पेट्रोल रास्ते में खत्म, गर्भवती महिला को अस्पताल ले जाते वक्त हुई मौत

चमरू पहारिया का एक बेटा और दो बेटी हैं. बेटा दूसरों के खेत में काम करके अपना पेट पाल रहा है जबकि दो बेटियों की शादी हो चुकी है. चमरू पहारिया के बेटे ने पुलिस स्टेशन में एफआईआर दर्ज कराई है जिस पर जांच चल रही है. पुलिस का कहना है एक आरोपी की गिरफ्तारी हुई है और पूछताछ चल रही है. चमरू पहारिया के बेटे ने कहा कि अब अलग-अलग नंबर से उसे धमकी मिल रही है और केस वापस लेने के लिए दवाब डाला जा रहा है. परिवार को मारने की धमकी दी जा रही है.

VIDEO : एम्बुलेंस का पेट्रोल रास्ते में खत्म, गर्भवती की मौत

टिप्पणियां



NDTV.in पर विधानसभा चुनाव 2019 (Assembly Elections 2019) के तहत हरियाणा (Haryana) एवं महाराष्ट्र (Maharashtra) में होने जा रहे चुनाव से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरें (Election News in Hindi), LIVE TV कवरेज, वीडियो, फोटो गैलरी तथा अन्य हिन्दी अपडेट (Hindi News) हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement