NDTV Khabar

पूर्व चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया से ठगी करने करने के आरोप में एक गिरफ्तार, मास्टरमाइंड की तलाश जारी

जस्टिस लोढ़ा ने दिल्ली पुलिस को दी अपनी शिकायत में कहा था कि 19 अप्रैल की देर रात करीब 1 बजकर 40 मिनट पर उनके मेल पर रिटायर्ड जस्टिस बीपी सिंह का मेल आया. मेल कर उन्होंने भतीजे की बीमारी के लिए तुरंत पैसे की मदद मांगी मेल करने वाले ने ये भी कहा कि वो फोन पर बात नहीं कर सकते और दिनेश माली नाम के शख्स के अकॉउंट में पैसे डालने के लिए कहा गया.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
पूर्व चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया से ठगी करने करने के आरोप में एक गिरफ्तार, मास्टरमाइंड की तलाश जारी

प्रतीकात्मक चित्र

नई दिल्ली:

पूर्व चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया आर एम लोधा को ऑनलाइन ठगी का शिकार बनाने वाले एक आरोपी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है,  जबकि ठगी के मास्टरमाइंड की तलाश की जा रही है. पुलिस ने गिरफ्तार आरोपी की पहचान दिनेश माली के रूप में की है. दिनेश एक शातिर साइबर अपराधी रहा है. दिनेश ने पूर्व चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया आरएम लोधा से एक लाख रुपये की ठकी थी. जस्टिस लोढ़ा ने दिल्ली पुलिस को दी अपनी शिकायत में कहा था कि 19 अप्रैल की देर रात करीब 1 बजकर 40 मिनट पर उनके मेल पर रिटायर्ड जस्टिस बीपी सिंह का मेल आया. मेल कर उन्होंने भतीजे की बीमारी के लिए तुरंत पैसे की मदद मांगी मेल करने वाले ने ये भी कहा कि वो फोन पर बात नहीं कर सकते और दिनेश माली नाम के शख्स के अकॉउंट में पैसे डालने के लिए कहा गया.

ठगी के आरोपी को पुलिस ने उसकी पसंद की शानदार जगह पर कराया लंच, छह पर गिरी गाज


आरोपियों ने दिनेश माली को इलाज करने वाला डॉक्टर बताया गया था. जस्टिस लोढ़ा ने 19 अप्रैल को ही 2 बार में उस अकॉउंट में ऑनलाइन पेमेंट के जरिये 1 लाख रुपये भेज दिए लेकिन जब 30 मई को रिटायर्ड जस्टिस बीपी सिंह से संपर्क हुआ तो पता चला कि उन्होंने पैसे तो मंगाए ही नहीं, उनका मेल अकाउंट किसी ने हैक कर मेल किया था. पुलिस को जैसे ही ये शिकायत मिली, पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू की. दिल्ली पुलिस की साइबर सेल  ने मामले की जांच किया तो पता चला कि जिस अकाउंट में पैसे डाले गए थे वो अकाउंट उदयपुर के रहने वाले दिनेश माली नाम के शख्स का है. पुलिस ने दिनेश माली के यहां दबिश दी दिनेश ने बताया की उसका अकाउंट मुकेश नाम के शख्स ने खुलवाया था.

भारत के एटीएम तकनीक के हिसाब से कमजोर, इसलिए ठगी करने आता था विदेशी गैंग

मुकेश दिनेश माली का दोस्त है पहले दोनों एक ही कंपनी में काम करते थे। मुकेश दिनेश माली को एक लाख अककॉउंट में ट्रांसफर होने पर एक हज़ार रुपये देता था। जिसके बाद पुलिस ने दिनेश माली को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस के मुताबिक अब तक दिनेश के एकाउंट में इससे पहले भी लाखों रुपये ट्रान्सफर हो चुके है. यानी ये काफी समय से ठगी का कारोबार कर रहे थे.

टिप्पणियां

मुकेश दिनेश का अकाउंट खुलवा कर उसका इस्तेमाल करता था और पर एक लाख पर एक हज़ार रुपये उसे देता था. फिलहाल पुलिस मुकेश की तलाश कर रही है. अब पुलिस ये पता लगाने में जुटी है जिस मेल अकाउंट से मेल आया था वो किसका है. और क्या मुकेश ही ठगी के इस गैंग का मास्टरमाइंड है या इसमे और लोग भी शामिल हैं. 



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement