NDTV Khabar

पेटीएम विवाद : सोनिया धवन के भाई का आरोप, मामला प्रोफेशनल राइवलरी का, कोई अकाउंट में क्यों मंगाएगा फिरौती का पैसा

पेटीएम के मालिक विजय शेखर को ब्लैकमेल कर 20 करोड़ रुपये मांगने की आरोपी सोनिया धवन के भाई निखिल ने आरोप लगाया है कि यह मामला प्रोफेशनल राइवलरी का है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
पेटीएम विवाद : सोनिया धवन के भाई का आरोप, मामला प्रोफेशनल राइवलरी का, कोई अकाउंट में क्यों मंगाएगा फिरौती का पैसा

सोनिया धवन के भाई निखिल ने आरोप लगाया है कि यह मामला प्रोफेशनल राइवलरी का है. (फोटो- विजय शेखर शर्मा)

नोएडा:

पेटीएम के मालिक विजय शेखर को ब्लैकमेल कर 20 करोड़ रुपये मांगने की आरोपी सोनिया धवन के भाई निखिल ने आरोप लगाया है कि यह मामला प्रोफेशनल राइवलरी का है. विजय शेखर को सबसे पहले फिरौती के लिये रोहित चोमल ने फ़ोन किया और 20 करोड़ की फिरौती मांगी. उसी के बयान के आधार पर सोनिया को गिरफ्तार किया गया, लेकिन अगर डेटा रोहित के पास है तो रोहित को गिरफ्तार करने से पहले सोनिया को कोलकाता में बैठे शख्स के बयान के आधार पर कैसे गिरफ्तार कर सकते हैं. उन्होंने कहा कि विजय शेखर खुद सामने क्यों नहीं आते और यह बताते हैं कि क्या डेटा चोरी हुआ है. विजय के भाई अजय ने मीडिया में बाइट दी कि इसमें कंपनी के 2 कर्मचारी देवेंद्र और राहुल अधाना शामिल हैं. देवेंद्र गिरफ्तार हुआ लेकिन राहुल अधाना का नाम न तो शिकायत में है और न ही उसे गिरफ्तार किया गया. निखिल ने कहा कि फिरौती का पैसा रोहित चोमल के अकाउंट में ट्रांसफर किया गया. क्या कोई अपराधी अपने अकाउंट में पैसा मंगाता है? क्या उसे टैक्स पे करना है? 

पेटीएम के मालिक को ब्लैकमेल करके 20 करोड़ मांगने वाली कंपनी की वाइस प्रेसिडेंट गिरफ्तार


टिप्पणियां

निखिल ने कहा कि मीडिया में चल रहा है कि सोनिया को फ्लैट लेना था. सोनिया के पास कंपनी के इतने शेयर हैं. क्या वो इतने छोटे अमाउंट के लिए ये करेगी. सोनिया का 8 साल का बच्चा पूछ रहा है उसके मां बाप कहां हैं? क्या विजय जी जवाब दे सकते हैं. इसी साल 22 सितंबर को सोनिया के पति के रूपक को किसी ने फ़ोन कर 5 करोड़ की फिरौती मांगी. रूपक ने पुलिस में शिकायत भी दर्ज कराई थी, लेकिन पुलिस ने अब तक कोई करवाई नहीं की. सोनिया जब जेल से बाहर आएगी पूरी सच्चाई सामने आ जायेगी. सोनिया को जब गिरफ्तार किया गया वो दफ्तर में काम कर रही थी. उसे पता तक नहीं था कि पुलिस उसे क्यों ले जा रही है. वो 10 साल से इस कंपनी में थी. एक महीने पहले वाईस प्रेसिडेंट बनाया गया और अब उसे गिरफ्तार करवा दिया गया. उसने जो पाया अपनी काबिलियत से पाया. 

पेटीएम का कौन सा डेटा चोरी हुआ? जांच में जुटी नोएडा पुलिस  
 



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement