NDTV Khabar

फतेहगढ़ सेंट्रल जेल में कैदी की गला दबाकर हत्या

फतेहगढ़ सेंट्रल जेल में सोमवार को मामूली विवाद के बाद कैदियों के बीच हुए संघर्ष में एक कैदी की गला दबाकर हत्या कर दी गई.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
फतेहगढ़ सेंट्रल जेल में कैदी की गला दबाकर हत्या

प्रतीकात्मक इमेज

खास बातें

  1. फतेहगढ़ सेंट्रल जेल में कैदी की गला दबाकर हत्या
  2. जुए में हारजीत की रकम को लेकर शुरू हुआ था विवाद
  3. पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिये भेज दिया है
फतेहगढ़:

फतेहगढ़ सेंट्रल जेल में सोमवार को मामूली विवाद के बाद कैदियों के बीच हुए संघर्ष में एक कैदी की गला दबाकर हत्या कर दी गई. बताया जा रहा है कि कैदियों में जुए में हारजीत की रकम को लेकर विवाद चल रहा था. जिसने सोमवार को हिंसक रूप ले लिया. पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिये भेज दिया है. फर्रुखाबाद के मेरापुर एरिया स्थित नौली गांव निवासी मुंशीलाल यादव के चार बेटे हरभान, वीरेंद्र, मुखराम व सत्यराम हत्या के एक मामले में फतेहगढ़ सेंट्रल जेल में उम्रकैद की सजा काट रहे हैं. उन्हीं की बैरक में जालौन निवासी अमर सह भी आजीवन कारावास की सजा काट रहा है. 

यह भी पढ़ें: सीबीआई ने फ्रेट कॉरिडोर कॉर्पोरेशन के अफसरों के खिलाफ दर्ज किया मामला

सोमवार दोपहर हरभान का अमर सिंह से विवाद हो गया. मामला बढऩे पर हरभान और उसके भाइयों ने अचानक अमर सिंह पर हमला बोल दिया. मारपीट के बीच अमर सिंह ने हरभान की गर्दन को हाथों से कस लिया. भाइयों व दूसरे कैदियों ने हरभान को छुड़ाने की कोशिश की. लेकिन, भरसक कोशिश के बावजूद वे हरभान को अमर सिंह की पकड़ से छुड़ाने में सफल न हो सके. आखिरकार हरभान ने दम घुटने की वजह से मौके पर ही दम तोड़ दिया. घटना के बाद हरभान के भाइयों ने अमर सिंह को फिर घेरकर पीटा. 


यह भी पढ़ें: चोटी कटने की अफवाह फैलाकर भीड़ को भड़काने वाले चार गिरफ्तार

टिप्पणियां

इसी बीच जेल के बंदीरक्षक वहां पहुंच गए और एक-दूसरे को मार डालने पर आमादा कैदियों को अलग किया. सिटी मैजिस्ट्रेट जेके जैन व इंस्पेक्टर कोतवाली ने सेंट्रल जेल पहुंच जांच की और शव पोस्टमार्टम के लिए भेजवाया. कैदियों ने पूछताछ के दौरान बताया क हरभान और अमर सिंह के बीच जुए में तीन-चार सौ रुपये को लेकर विवाद था. दिवाली पर जुए के दौरान हार जीत को लेकर भी मामूली कहासुनी हो चुकी थी.  

VIDEO:बेटी से छेड़छाड़ करने से मना करने पर शख्स को जिंदा जलाया
वरिष्ठ जेल अधीक्षक बीपी त्रिपाठी ने बताया कि मामले में मजिस्ट्रेट जांच के लिए लिखा जाएगा.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement