NDTV Khabar

यौन उत्पीड़न मामला : वीरेंद्र देव दीक्षित की जानकारी देने वाले को पांच लाख के इनाम का ऐलान

स्वयंभू आध्यात्मिक बाबा वीरेंद्र देव दीक्षित के सभी आश्रमों पर नोटिस लगाए गए हैं लेकिन उसकी जानकारी नहीं मिल रही

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
यौन उत्पीड़न मामला : वीरेंद्र देव दीक्षित की जानकारी देने वाले को पांच लाख के इनाम का ऐलान

आध्यात्मिक विश्वविद्यालय के संस्थापक कथित बाबा वीरेंद्र देव दीक्षित के खिलाफ पांच लाख रुपये का इनाम घोषित किया गया है.

खास बातें

  1. सीबीआई ने हाइकोर्ट के आदेश पर दिसम्बर 2017 में जांच शुरू की थी
  2. सीबीआई ने लुक आउट नोटिस और ब्लू कॉर्नर नोटिस भी जारी किए
  3. बाबा का नेपाल में आश्रम, उसके खिलाफ दो गैर जमानती वारंट जारी
नई दिल्ली:

आध्यात्मिक विश्वविद्यालय में महिलाओं के यौन उत्पीड़न के मामले में अब तक सीबीआई को स्वयंभू आध्यात्मिक बाबा वीरेंद्र देव दीक्षित का पता नहीं चल सका है. सीबीआई ने आज उसकी जानकारी देने वाले को पांच लाख का इनाम देने की घोषणा की.

सीबीआई ने कहा कि दिल्ली हाइकोर्ट के आदेश पर 20 दिसम्बर 2017 को उसने तीन केसों की जांच शुरू की थी. तीन जनवरी 2018 को तीन केस दर्ज हुए थे.वीरेंद्र देव दीक्षित के दो पते हैं, एक दिल्ली के विजय विहार में है, दूसरा फरुखाबाद में है. सभी आश्रमों पर नोटिस लगाए गए हैं लेकिन उसकी जानकारी नहीं मिल रही है.

सीबीआई ने कहा कि आज उसकी जानकारी देने पर पांच लाख के इनाम की घोषणा की गई है. लुक आउट नोटिस भी जारी किया जा चुका है. 26 मार्च 2018 को ब्लू कॉर्नर नोटिस जारी हुआ है, क्योंकि उसका नेपाल में आश्रम है. कोर्ट से बाबा के खिलाफ दो गैर जमानती वारंट जारी हो चुके हैं.


कोर्ट में वकील ने कहा 'नारी नर्क का द्वार', जज ने कमरे से बाहर निकाला

इससे पहले दिल्ली हाईकोर्ट ने पांच फरवरी को वीरेंद्र देव दीक्षित के वकील से संस्थान के सभी केंद्रों के नाम और पतों की विस्तृत जानकारी देने का आदेश दिया था. इसी दौरान केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने दिल्ली उच्च न्यायालय को बताया था कि धार्मिक उपदेश के नाम पर औरतों और लड़कियों को कथित रूप से अवैध तरीके से बंदी बनाने वाले आश्रम के संस्थापक वीरेंद्र देव दीक्षित के खिलाफ लुक आउट सर्कुलर जारी कर दिया गया है. सीबीआई ने पीठ को यह भी बताया कि फरार दीक्षित को पकड़ने के लिए सभी संभावित तरीके अपनाए जा रहे हैं. सीबीआई ने अगली रिपोर्ट जमा करने के लिए एक महीने का और समय मांगते हुए कहा था कि सभी केंद्रों की निगरानी की जा रही है और जांच चल रही है. हाईकोर्ट से सीबीआई को मिली अब मोहलत खत्म हो रही है.

सीबीआई ने दीक्षित के खिलाफ कथित रूप से कई महिलाओं और नाबालिग लड़कियों को आश्रम में बंधक बनाकर रखने के आरोप में तीन मामले दर्ज किए हैं.

दूसरी लिस्ट : अखाड़ा परिषद ने रेप के आरोपी वीरेंद्र देव दीक्षित समेत इन बाबाओं को किया फर्जी घोषित

उच्च न्यायालय ने मामला पुलिस से सीबीआई को स्थानांतरित कर दर्ज विभिन्न मामलों की जांच के लिए विशेष जांच दल गठित करने का आदेश दिया था. आरोप है कि लड़कियों और महिलाओं को कथित रूप से आध्यात्मिक प्रवचन के नाम पर आश्रम ले जाने के बाद उनके साथ दुष्कर्म किया गया था.

VIDEO : वीरेंद्र देव के खिलाफ लुकआउट नोटिस जारी

टिप्पणियां

दिल्ली उच्च न्यायालय ने दिसम्बर 2017 में आश्रम की जांच के लिए एक जांच कमेटी गठित की थी और निर्देश दिया था कि पुलिस उपायुक्त या उससे उच्च पद के अधिकारी से इस मामले की जांच कराई जाए. न्यायालय ने जांच के दौरान दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाती मालीवाल से भी सहयोग करने के लिए कहा था.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान प्रत्येक संसदीय सीट से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरों, LIVE अपडेट तथा चुनाव कार्यक्रम के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement