पूर्वोत्तर के चुनावों में आम आदमी पार्टी को मिली हार पर कुमार विश्वास ने यूं कसा तंज

उन्होंने कहा कि 'आप' को वहां पर एक भी सीट नहीं मिली है बल्कि एक राज्य में उसे नोटा से भी कम वोट मिले हैं.

पूर्वोत्तर के चुनावों में आम आदमी पार्टी को मिली हार पर कुमार विश्वास ने यूं कसा तंज

आम आदमी पार्टी के नेता कुमार विश्वास.

खास बातें

  • कुमार विश्वास पार्टी से नाराज चल रहे हैं
  • राज्यसभा न भेजे जाने से नाराज हैं
  • कई मौकों पर पार्टी के इतर राय रख चुके हैं.
नई दिल्ली:

आम आदमी पार्टी ने उत्तर पूर्व में त्रिपुरा को छोड़कर दो राज्यों में पार्टी ने अपने उम्मीदवार खड़े किए थे. पार्टी ने मेघालय में 6 प्रत्याशी और नागालैंड में तीन प्रत्याशी उतारे थे. सभी हार गए. नागालैंड में आम आदमी पार्टी कुल 7491 वोट मिले.  कुमार विश्वास ने पार्टी को मिली शर्मनाक हार पर पूर्वोत्तर राज्यों के चुनावी नतीजों के बाद कमेंट किया. उन्होंने कहा कि 'आप' को वहां पर एक भी सीट नहीं मिली है बल्कि एक राज्य में उसे नोटा से भी कम वोट मिले हैं.

कुमार विश्वास ने ट्विटर पर लिखा, 'अपने असुरक्षाग्रस्त वैचारिक पतन पर विचार करने की अपेक्षा मतदान व मतगणना की प्रक्रियाओं पर प्रश्न खड़े करने वाले नवपतित आंदोलनकारिओं को जनता EVM की बजाय उँगलियों पर गिनने योग्य वोट दे रही है,फिर भी वे नकारात्मकता चमचाच्छादित ओछेपन में मग्न हैं.लोकतंत्र के लिए कमज़ोर विपक्ष घातक है.'

उल्लेखनीय है कि आम आदमी पार्टी के संयोजक अरविंद केजरीवाल व उनकी पार्टी के तमाम बड़े नेताओं ने पंजाब विधानसभा चुनाव, दिल्ली नगर निगम और यूपी चुनाव के बाद ईवीएम में गड़बड़ी को लेकर केंद्र सरकार पर हमला बोला था. पार्टी ने कई दिनों तक ईवीएम का मुद्दा उठाया. 

बता दें कि उस समय भी कुमार विश्वास ने अपनी पार्टी के इस मत से असहमति दिखाई थी. उनका कहना था कि आप को ईवीएम पर निशाना साधने की बजाए अपनी हार के कारणों पर विचार करना चाहिए. 

गौर करने की बात है कि पिछले काफी समय से कुमार विश्वास पार्टी से नाराज चल रहे हैं. पार्टी ने उन्हें राज्यसभा में नहीं भेजा. इससे वे काफी नाराज हो गए. इतना ही नहीं पार्टी की ओर से कुमार विश्वास पर धोखा देने के आरोप लगे. यहां तक कहा गया कि अरविंद केजरीवाल के खिलाफ कुमार विश्वास ने विधायकों को भड़काया भी था.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com