सिग्नेचर ब्रिज: BJP सांसद मनोज तिवारी को 'आप' विधायक अमानतुल्लाह खां ने दिया धक्का, वायरल हुआ VIDEO

वीडियो में आम आदमी पार्टी के विधायक अमानतुल्लाह खान (Amanatullah Khan)  सांसद मनोज तिवारी को स्टेज से नीचे धक्का देते हुए दिख रहे हैं.

सिग्नेचर ब्रिज: BJP सांसद मनोज तिवारी को 'आप' विधायक अमानतुल्लाह खां ने दिया धक्का, वायरल हुआ VIDEO

आप विधायक ने सांसद मनोज तिवारी को दिया धक्का

खास बातें

  • वीडियो में दिख रहा है कि कैसे विधायक तिवारी को धक्का दे रहे हैं
  • मनोज तिवारी ने की थी बदसलूकी की बात
  • बगैर बुलाए समारोह स्थल पर पहुंचे थे मनोज तिवारी
नई दिल्ली:

दिल्ली के सिग्नेचर ब्रिज (Signature Bridge) के उद्घाटन से पहले बीजेपी सांसद मनोज तिवारी (Manoj Tiwari) के हंगामे का मामला अब तूल पकड़ा दिखा रहा है. इस प्रकरण में अब एक और वीडियो सामने आया है जिसमें आम आदमी पार्टी के विधायक अमानतुल्लाह खान (Amanatullah Khan)  सांसद मनोज तिवारी को स्टेज से नीचे धक्का देते हुए दिख रहे हैं. ध्यान हो कि मनोज तिवारी ने सिग्नेचर ब्रिज (Signature Bridge) के उद्घाटन से पहले अपने साथ आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ताओं द्वारा बदसलूकी करने का आरोप लगाया था. उन्होंने कहा था कि 'आप' के कार्यकर्ताओं ने उनके साथ गाली-गलौच और धक्का मुक्की की .हालांकि मनोज तिवारी के इस बयान के बाद 'आप' के नेता दीलीप पांड ने मनोज तिवारी के सभी आरोपों को निराधार बताते हुए कहा था कि बदसलूकी और धक्का मुक्की 'आप' के कार्यकर्ताओं ने नहीं बल्कि बीजेपी के लोगों ने किया है.
 


गौरतलब है कि आज शाम दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सिग्नेचर ब्रिज का उद्घाटन किया. इस मौके पर उनके साथ डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया और दिल्ली सरकार के अन्य मंत्री व विधायक भी मौजूद थे. सीएम द्वारा उद्घाटन से पहले बीजेपी सांसद मनोज तिवारी ने जमकर बवाल काटा. उन्होंने इस दौरान आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ताओं द्वारा खुदपर हमले की बात कही.
 
मनोज तिवारी  का आरोप है कि जब वह उद्घाटन कार्यक्रम के दौरान स्टेज के पास पहुंचे तो उनके खिलाफ पहले आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने नारे लगाए और बाद में उनके साथ बदसलूकी की. खास बात यह है कि दिल्ली सरकार की तरफ से उन्हें उद्घाटन समारोह में शामिल होने के लिए न्यौता नहीं दिया गया था.

यह भी पढ़ें: सिग्नेचर ब्रिज के उद्घाटन समारोह में बिना बुलाए पहुंचे बीजेपी सांसद मनोज तिवारी का हंगामा

ध्यान हो कि मनोज तिवारी ने  कुछ दिन पहले कहा था कि सिग्नेचर ब्रिज का इतिहास बहुत पुराना है 2003 में तत्कालीन प्रधानमंत्री श्री अटल बिहारी वाजपेयी के साथ तत्कालीन विधायक साहब सिंह चैहान के निमंत्रण पर ब्रिज बनाने को लेकर चर्चा की गई. उस समय 265 करोड़ रुपये की लागत से इसे बनाने की योजना तैयार की गई थी लेकिन 2004 में सत्ता परिवर्तन के साथ दिल्ली की मुख्यमंत्री और केन्द्र सरकार में तालमेल की कमी के कारण इस ब्रिज का बजट बढ़कर 400 करोड़ रूपये हो गया.

VIDEO: सिग्नेचर ब्रिज से पहले हंगामा.

वर्ष 2009 में सांसद जेपी अग्रवाल और मुख्यमंत्री शीला दीक्षित की आपसी कलह की वजह से ब्रिज का कार्य अधर में लटका रहा.तिवारी ने कहा कि 2014 में उत्तर पूर्व संसदीय क्षेत्र से मैं सांसद निर्वाचित हुआ और सिग्नेचर ब्रिज पर पहली मीटिंग तत्कालीन विधायक साहब सिंह चैहान और करावल नगर के तत्कालीन विधायक मोहन सिंह बिष्ट के साथ हुई जिसमें मुझे बताया गया कि गैमन नाम की कम्पनी प्रोजेक्ट छोड़कर भाग चुकी है और अब ब्रिज का बजट बढ़कर 1100 करोड़ रुपये का हो गया है. अक्टूबर माह में रूके हुए प्रोजेक्ट को शुरू करने के लिए 33 करोड़ रुपये की आवश्यकता बताई गई जिस पर संज्ञान लेते हुए दिल्ली में राष्ट्रपति शासन होते हुए मेरे अनुरोध पर केन्द्र सरकार ने 33 करोड़  रुपये आवंटित किए.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com