NDTV Khabar

एम्स के कर्मचारियों को अपनी शिकायतों के बारे में सीधे प्रधानमंत्री एवं मंत्री को पत्र नहीं लिखने का निर्देश

एक परिपत्र में एम्स प्रशासन ने कहा है कि सीधे ‘बाहरी अधिकारियों को’ ऐसे आवेदन देने को अनपयुक्त आचरण माना जाएगा और उन्हें संबंधित अधिकारी या संस्थान के निदेशक को अपना आवेदन देने की सलाह दी गई.

342 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
एम्स के कर्मचारियों को अपनी शिकायतों के बारे में सीधे प्रधानमंत्री एवं मंत्री को पत्र नहीं लिखने का निर्देश

(फाइल फोटो)

नई दिल्ली: अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) के कर्मचारियों द्वारा अपनी शिकायतों के निवारण के लिए सीधे प्रधानमंत्री एवं अन्य मंत्रियों को पत्र लिखने का गंभीर संज्ञान लेते हुए अस्पताल प्रशासन ने उन्हें ऐसा करने पर अनुशासनात्मक कार्रवाई की चेतावनी दी है. एक परिपत्र में एम्स प्रशासन ने कहा है कि सीधे ‘बाहरी अधिकारियों को’ ऐसे आवेदन देने को अनपयुक्त आचरण माना जाएगा और उन्हें संबंधित अधिकारी या संस्थान के निदेशक को अपना आवेदन देने की सलाह दी गई.

परिपत्र के अनुसार संस्थान को कर्मचारियों द्वारा सेवा संबंधी विषयों पर लिखे गए ढेरों आवेदन मिले हैं जो संस्थान के बाहर सीधे प्रधानमंत्री, मंत्री और सांसदों को भेजे गए थे.

यह भी पढ़ें : एंजियोप्लास्टी के बाद उप राष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू को मिली एम्स से छुट्टी

परिपत्र में कहा, ‘संस्थान के अधिकारियों की अनदेखी कर बाहरी अधिकारियों को ऐसे आवेदन देने को गंभीरता से लिया गया है. ’

VIDEO : पीएम मोदी ने एम्स की तर्ज पर बने आयुर्वेद संस्थान का किया उद्घाटन​


अस्पताल प्रशासन ने उन कर्मचारियों को अपना आवेदन संबंधित अधिकारी, संस्थान के उपनिदेशक या निदेशक को देने की सलाह दी है जो सेवा अधिकार या स्थिति के दावे या संबंधित शिकायत के निवारण के लिए आवेदना देना चाहते हैं.

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement