दिल्ली हिंसा के बीच चांदबाग के मुस्लिम गली वालों ने विदा की हिंदू दुल्हन

ये सब ऐसे हालात में किया जब पूरे उत्तर पूर्वी दिल्ली इलाके में भारी तनाव था और हर जगह हिंसा हो रही थी.

खास बातें

  • चांद बाग पहुंची बारात का मुस्लिम गली वालों ने किया स्वागत
  • मंडोली से चांद बाग पहुंची थी बारात
  • उत्तर पूर्वी दिल्ली में हिंसा के बीच हुई शादी
नई दिल्ली :

दिल्ली हिंसा के बीच चांदबाग इलाके के लोगों ने भाईचारे की मिसाल भी पेश की. उत्तर पूर्वी दिल्ली के मंडोली से बारात जब हिंसा प्रभावित चांद बाग पहुंची तो स्थानीय मुस्लिम समुदाय ने भाईचारे की मिसाल पेश करते हुए शादी करवाने में सहयोग किया और बारात का स्वागत किया. ये सब ऐसे हालात में किया जब पूरे उत्तर पूर्वी दिल्ली इलाके में भारी तनाव था और हर जगह हिंसा हो रही थी. उत्तर पूर्वी दिल्ली में हुई हिंसा में अब तक मौत का आंकड़ा 42 पार कर चुका है. 

दिल्ली में दंगाइयों ने कर लिया था स्कूल पर कब्जा, किताबें फाड़कर फेकीं, रोते हुए गार्ड ने सुनाई दिल दहला देने वाली कहानी

हिंसा के बीच बारात लेकर पहुंचे गुलशन कुमार ने बताया कि उनकी शादी पहले 25 फरवरी को होने थी लेकिन माहौल खराब होने के चलते शादी को टाल दिया गया. गुलशन ने बताया, "लेकिन हमने सोचा कि आखिर कब तक शादी को इस तरह टालते रहेंगे इसलिए हमने अगले दिन हालात थोड़ा ठीक होते देख बारात ले जाने का फैसला किया."

गुलशन ने बताया कि जैसे ही बारात चांदबाग पहुंची तो गली में मुस्लिम समुदाय ने सहयोग किया और पूरी शादी के दौरान आस-पास का माहौल शांत रहा. चांद बाग से ब्याह कर आई सावित्री ने बताया, "हमारी गली के मुस्लिमों ने शादी कराने में पूरा सहयोग किया. दंगे के बीच गली के लोगों ने यह तय कि जैसे तैसे दुल्हन को विदा करा दिया जाए."

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com