NDTV Khabar

सेना ने सर्विस कोर के मुद्दों का निराकरण करने के लिये जरूरी सुधार का वादा किया

सेना ने कहा कि बल युद्ध और शांति में समग्रता से अपने कर्तव्यों का निर्वहन करता है अलग-अलग हिस्सों में नहीं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
सेना ने सर्विस कोर के मुद्दों का निराकरण करने के लिये जरूरी सुधार का वादा किया

(प्रतीकात्मक तस्वीर)

नई दिल्ली: सेना ने अपने कर्मियों के एक हिस्से की उस मांग को खारिज कर दिया है जिसमें कहा गया था कि ‘गैर योद्धाओं’ को अभियान क्षेत्रों में तैनात नहीं किया जाना चाहिये. सेना ने कहा कि बल युद्ध और शांति में समग्रता से अपने कर्तव्यों का निर्वहन करता है अलग-अलग हिस्सों में नहीं. साथ ही सेना ने कहा कि सेना सेवा कोर (एएससी) के उसके कुछ कर्मियों में उनकी हैसियत के मामले में ‘भेदभाव’ को लेकर क्षोभ को समाप्त किये जाने की आवश्यकता है और जहां भी जरूरत होगी ‘आवश्यक सुधार’ किये जाएंगे. सर्विस कोर सेना को साजो-सामान से मदद प्रदान करती है.

उच्चतम न्यायालय ने उस जवान की याचिका पर सरकार से जवाब मांगा था जिसने कहा था कि अगर उसे ‘गैर योद्धा’ का दर्जा दिया गया है तो उसे सैन्य अभियान वाले क्षेत्र में पदस्थापित नहीं किया जाना चाहिये. इसके कुछ दिन बाद ही इस मुद्दे पर सेना के शीर्ष कमांडरों के चल रहे सम्मेलन में चर्चा हुई.

यह भी पढ़ें : पाक सेना की गोलीबारी में सेना का जवान शहीद, कुली की मौत

एक वक्तव्य में सेना ने कहा कि उसने उच्चतम न्यायालय में दायर अपने हलफनामे में इस बात का उल्लेख किया है कि सेना की हर शाखा और सेवा लड़ाकू है इसको लेकर कभी विवाद नहीं रहा है. सेना ने कहा, ‘इसलिये, किसी भी मौके पर सेना ने सर्विसेज यूनिट को गैर-लड़ाकू यूनिट नहीं कहा है.’

सेना सेवा कोर का एक हिस्सा वेतन समेत अन्य मामलों में भेदभाव का आरोप लगा रहा है. सेना प्रमुख बिपिन रावत ने कार्यभार संभालने के बाद कहा था कि वह सभी शाखाओं और सेवाओं को समान मानेंगे और आश्वासन दिया था कि उनका वाजिब हक मिलेगा. सेना ने कहा, ‘उसके कुछ कर्मियों में उनकी हैसियत में भेदभाव को लेकर क्षोभ को समाप्त किये जाने की आवश्यकता है और सेना प्रमुख ने आश्वासन दिया है कि जहां भी जरूरी सुधार की जरूरत है उसे किया जाएगा.’ सेना ने कहा कि उसने उच्चतम न्यायालय में दायर अपने हलफनामे में कहा है कि सेना युद्ध और शांति में समग्रता से भूमिका निभाती है और अलग-अलग हिस्सों में भूमिका नहीं निभाती है. उसने कहा, ‘प्रत्येक शाखा, सेवा की विशेष भूमिका और कार्य हैं.’ 
 

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement