दिल्ली में लागू नहीं होगी आयुष्मान भारत योजना, अरविंद केजरीवाल बोले- हमारी योजना 'बड़ी'

दिल्ली और केंद्र सरकार के बीच एक दूसरे की योजनाओं को सवालों के कटघरे में रखने का सिलसिला जारी है.

नई दिल्ली:

दिल्ली और केंद्र सरकार के बीच एक दूसरे की योजनाओं को सवालों के कटघरे में रखने का सिलसिला जारी है. दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने आज केंद्र की आयुष्मान योजना पर सवाल उठाए हैं और इसे दिल्ली में लागू करने से इनकार कर दिया है. उन्होनें देश के स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन को एक चिट्ठी लिखी हैं. चिट्ठी के जरिए अरविंद केजरीवाल ने इस योजना पर सवाल उठाते हुए पूछा है कि जब हरियाणा-उत्तर प्रदेश में लागू है आयुष्मान योजना फिर दिल्ली के अस्पतालों में क्यों इलाज कराने आते हैं. इसके अलावा दिल्ली के मुख्यमंत्री ने ये भी दावा किया कि केंद्र की योजना में जहां सरकार बच 5 लाख का खर्च उठाती है वहीं दूसरी तरफ दिल्ली सरकार की योजना में 30 लाख तक का खर्च सरकार उठाती है.  

विदेशी नागरिक बताकर डिटेंशन सेंटर में रखे गए पूर्व भारतीय सैनिक मोहम्मद सनाउल्लाह को मिली जमानत

अरविंद केजरीवाल ने अपने लेटर में लिखा कि दिल्ली और केंद्र सरकार दोनों की योजनाओं का मकसद है कि लोगों को स्वास्थय संबंधी सुविधाएं मिलें. उन्होंने लिखा कि दिल्ली में पहले से चल रही स्वास्थ्य योजना को बंद कर दूसरी योजना लागू करने से किसी का फायदा नहीं होगा. अगर दिल्ली स्वास्थ्य योजना को बंद कर आयुष्मान भारत को लागू किया गया तो लाखों दिल्लीवासियों का नुकसान हो जाएगा. अरविंद केजरीवाल ने केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री से चिट्ठी के माध्यम से कहा कि, 'अगर आपकी (हर्षवर्धन) नजर में आयुष्मान भारत में कोई ऐसी बात है जो दिल्ली की स्वास्थ्य योजना में नहीं है तो कृपया बताइए. हम उन सभी अच्छी बातों को दिल्ली की योजना में शामिल कर लेंगे.'  

Newsbeep

मध्य प्रदेश: कांग्रेस अध्यक्ष पद को लेकर तकरार शुरू, दावेदारी में इन नेताओं के नाम

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


बता दें कि डॉक्टर हर्षवर्धन से पहले केंद्रीय शहरी विकास मंत्री हरदीप पुरी ने अरविंद केजरीवाल सरकार पर दिल्ली के लोगों को आयु्ष्मान भारत योजना से वंचित रखने का आरोप लगाया था. इसी मुद्दे पर अरविंद केजरवाल ने पलटवार किया है.