NDTV Khabar

ट्विटर पर राहुल की लोकप्रियता को लेकर भाजपा-कांग्रेस के बीच तकरार

खबर में इस बात पर सवाल उठाया गया कि क्या राहुल के व्यापक रिट्वीट के पीछे स्वचालित बोट्स हैं.

1Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
ट्विटर पर राहुल की लोकप्रियता को लेकर भाजपा-कांग्रेस के बीच तकरार

राहुल गांधी (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: ट्विटर पर राहुल गांधी की लोकप्रियता को लेकर भाजपा एवं कांग्रेस के बीच वाकयुद्ध छिड़ गया है. सूचना एवं प्रसारण मंत्री स्मृति ईरानी ने ट्वीट कर सुझाव दिया कि रिट्वीट विदेश स्थित फर्जी एकांउटों से किये जाते हैं. उन्होंने ट्वीट कर कहा, ‘संभवत: आफिस आफ आरजी रूस, इंडोनेशिया अथवा कजाकिस्तान में चुनाव में सूपड़ा साफ करने की योजना बना रहा है? कजाक में राहुल की लहर.’ उन्होंने इस ट्वीट के साथ मीडिया की एक खबर को टैग किया है. आफिस आफ आरजी कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी का आधिकारिक ट्विटर हैंडल है.

खबर में इस बात पर सवाल उठाया गया कि क्या राहुल के व्यापक रिट्वीट के पीछे स्वचालित बोट्स हैं.खबर के अनुसार 15 अक्तूबर को आफिस आफ आरजी ने अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के एक ट्वीट को रिट्वीट किया था जिसमें अमेरिकी पाकिस्तानी संबंधों की सराहना की गयी थी. इसमें कहा गया था, ‘मोदीजी, जल्दी करिए, ऐसा लगता है कि राष्ट्रपति ट्रंप एक और झप्पी चाहते हैं.’ यह ट्वीट जल्द ही 20 हजार बार रिट्वीट किया गया और खबर में दावा किया गया कि अब यह 30 हजार पर पहुंच गया है. खबर के अनुसार इस ट्वीट का बारीकी से विश्लेषण करने पर पाया गया इसे रूसी, कजाक या इंडोनेशियाई विशेषताओं के साथ इसे कथित रूप से बूट्स किया गया. कांग्रेस उपाध्यक्ष के ट्वीट को नियमित तौर पर रिट्वीट किया जाता है. इंटरनेट बोट एक साफ्टवेयर एप्लीकेशन है जो इंटरनेट पर स्वचालित ढंग से काम करता है.

यह  भी पढ़ें : राहुल गांधी ने लुधियाना में RSS कार्यकर्ता की हत्या की निंदा की, बोले- हिंसा अस्वीकार्य

एजेंसी की इस खबर की सत्यता का निष्पक्ष ढंग से आंकलन नही हो पाया है. कांग्रेस के राज्यसभा सदस्य राजीव शुक्ला ने राहुल के बचाव में सामने आते हुए कहा कि सोशल मीडिया पूरे विश्व को जोड़ता है तथा रूस, कजाकिस्तान एवं इंडोनेशिया से होने वाले रिट्वीट को अचरज के तौर पर नहीं लिया जाना चाहिए. उन्होंने टीवी चैनलों से कहा, ‘वे (भाजपा) राहुल गांधी एवं उसकी लोकप्रियता से घबराये हुए हैं.’ एक अन्य कांग्रेस नेता एवं पूर्व केन्द्रीय मंत्री आरपीएन सिंह ने कहा कि यह महत्वपूर्ण नहीं है कि किसी ट्वीट को कितनी बार रिट्वीट किया गया.

यह  भी पढ़ें : जय शाह को 'सरकारी कानूनी मदद' मिलने पर राहुल गांधी का तंज, कहा-'व्हाइ दिस कोलावेरी डा?'

उन्होंने कहा कि महत्वपूर्ण वह मुद्दे हैं जो राहुल गांधी अपने ट्वीटों के जरिये उजागर कर रहे हैं. उन्होंने कहा, ‘भाजपा जवाब नहीं दे रही है. चौकीदार कहां है. वह उस कंपनी के कारोबार के बारे में कुछ क्यों नहीं बोल रहे कि शहजादे के स्वामित्व वाली कंपनी का कारोबार एक वर्ष में 16 हजार गुना कैसे बढ़ गया. वे जवाब क्यों नहीं दे रहे. वे उनके (राहुल के) द्वारा किसानों के बारे में उठाये सवालों का जवाब क्यों नहीं दे रहे.’ सिंह एक वेब पोर्टल की उस खबर का उल्लेख कर रहे थे, जिसमें भाजपा प्रमुख अमित शाह के पुत्र जय शाह के स्वामित्व वाली कंपनी का कारोबार पार्टी के केन्द्र में सत्ता में आने के बाद वर्ष 2014 में बहुत बढ़ गया. जय शाह ने इस खबर के लिए पोर्टल ‘द वायर’ के खिलाफ मानहानि का मामला दर्ज करवाया है.

VIDEO : क्या राहुल गांधी के पास कोई प्लान है?​


केन्द्रीय मंत्री राज्यवर्धन राठौर ने रिट्वीट किया, ‘खेल में यह डोपिंग के तहत आएगा अरे जरा रूकिए. क्या डोप से आपको कुछ याद आ रहा है.’ भाजपा के आईटी प्रकोष्ठ के प्रमुख अमित मालवीय ने एक टीवी समाचार चैनल से सवाल किया कि कांग्रेस को राहुल गांधी के लिए समर्थन ‘खरीदना’ क्यों पड़ रहा है. स्मृति ईरानी ने राज्यसभा सदस्य राजीव चंद्रशेखर सहित अन्य लोगों के ट्वीट को रिट्वीट किया. चंद्रशेखर ने ट्वीट किया, ‘हताशा भरे समय में हताशापूर्ण उपायों की जरूरत पड़ती है.’

 

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement