11 साल पहले ही शुरू हो गई थी बुराड़ी में 11 मौतों की कहानी...

दिल्ली के बुराड़ी में एक ही परिवार के 11 सदस्यों की मौत की कहानी की शुरुआत 11 साल पहले 2007 में ही हो गई थी.

11 साल पहले ही शुरू हो गई थी बुराड़ी में 11 मौतों की कहानी...

बुराड़ी में 11 लोगों की मौत की गुत्थी सुलझी.

नई दिल्ली:

दिल्ली के बुराड़ी में एक ही परिवार के 11 सदस्यों की मौत की कहानी की शुरुआत 11 साल पहले 2007 में ही शुरू हो गई थी, जब परिवार के मुखिया भोपाल सिंह की मौत हुई थी. इसके बाद से ही परिवार के सबसे छोटे बेटे ललित के अंदर उसके पिता की 'आत्मा' आने लगी थी. ललित 11 साल से पिता की आत्मा आने के बाद पिता की आवाज में परिवार से बात करता था. उन्हें क्या फैसला लेना है, वो पिता की आत्मा आने के बाद ललित ही लेता था. परिवार के 11 सदस्यों को यकीन हो चुका था कि ललित के अंदर उसके पिता की आत्मा आ जाती है. क्राइम ब्रांच को घर से 11 रजिस्टर मिले हैं जिनमें मौत की पूरी स्क्रिप्ट पहले से ही लिखी हुई है. इसके साथ ही क्राइम ब्रांच और पुलिस ने अपनी जांच लगभग पूरी कर ली है.

यह भी पढ़ें : डायरी में 30 जून की अंतिम एंट्री ने खोला सामूहिक खुदकुशी का राज, जानिए क्या हुआ था आखिरी रात
 

lalit bhatia burari death ndtv
ललित 11 साल से पिता की आत्मा आने के बाद पिता की आवाज में परिवार से बात करता था.

पिछले 11 साल में ललित ने पिता की आत्मा आने के बाद जो फैसले लिए उसकी वजह से परिवार की काफी तरक्की हुई. एक दुकान से तीन दुकान हो गईं. घर भी अब दोबारा बनाया जा रहा था. प्रियंका मांगलिक थी जिसकी वजह से उसकी शादी नहीं हो रही थी. पिता के कहने पर जब एक ख़ास पूजा करने के बाद 17 जून को उसकी शादी एक अच्छे लड़के से तय होने के बाद सगाई भी हो गई तो परिवार काफी खुश था.
 

burari family

ललित के अंदर उसके पिता आए और उन्होंने 24 जून से 7 दिन तक चलने वाली बड़ पूजा यानी बरगद की तपस्या करने को कहा. ललित ने परिवार को बताया कि हमें 24 जून से 7 दिन तक बरगद की तपस्या करनी है. इसके बाद हमारे दिन और अच्छे और खुशहाल हो जाएंगे. परिवार 24 जून से रोज़ रात में पूजा करता था. इस पूजा से पहले ही 30 तारीख को रात 12 से एक बजे के बीच में सबको बरगद के पेड़ की शाखाओं की तरह खड़ा होना था. किसको कहां खड़ा होना है, क्या करना है, यह सब रजिस्टर में पहले से ही लिखा था.

यह भी पढ़ें : बुराड़ी कांड: 11 लोगों की मौत से एक घंटे पहले घर जाने वाले शख्‍स ने परिवार से की थी ये 'बात'

पुलिस ने घर के बाहर लगे सीसीटीवी में देखा - 30 जून को रात 10:00 बजे नीतू और उसकी मां 6 काले रंग के स्टूल लेकर ऊपर गईं. रात 10:40 पर डिलीवरी ब्वाय खाना लेकर आया और वह उसने प्रियंका को दिया. रात 10.57 बजे भूपी कुत्ते को घुमाने के लिए बाहर आया. अगले दिन सुबह 5:56 बजे ट्रक दूध लेकर आया. आम तौर पर दुकान सुबह 6 बजे खुल जाती है, लेकिन जब दुकान नहीं खुली तो ट्रक वाले ने कई बार फोन मिलाया लेकिन किसी ने नहीं उठाया. ट्रक 6:03 बजे चला गया. सुबह 7:14 बजे नौकरों ने पड़ोस के सरदार जी से कहा तो वे ऊपर गए. वे 35 सेकेंड में नीचे आ गए और शोर मचा दिया.

यह भी पढ़ें :बुराड़ी कांड : ललित 2011 से अपने पिता को सपने में देख रहा था, तीसरा रजिस्टर मिला
 

burari
परिवार का खुदकुशी का कोई इरादा नहीं था.

पुलिस ने जब तमाम रजिस्टरों को पढ़ा तो पाया कि परिवार का खुदकुशी का कोई इरादा नहीं था. यह तपस्या वे अपने अच्छे भविष्य के लिए कर रहे थे, लेकिन एक हादसे के तौर पर उनकी मौत हो गई. इनमें से तीन भूपी, ललित और टीना के हाथ खुले हुए थे.

क्राइम ब्रांच के सूत्रों के मुताबिक यह परिवार बरगद की तपस्या करके अपने परिवार की खुशहाली के लिए यह पूजा कर रहा था जो 7 दिन से चल रही थी. एक आत्मा को खुश करने के चक्कर में 11 लोगों की जान चली गई.

VIDEO : बुराड़ी में 11 मौतों की गुत्थी सुलझी

इस परिवार का सरनेम भाटिया नहीं बल्कि चुंडावत है. दरअसल प्रतिभा की शादी भाटी से हुई थी, जिनकी मौत हो गई थी. प्रतिभा बच्चों को पढ़ाती थी तो बच्चे उन्हें भाटिया मैडम बोलते थे.

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com