NDTV Khabar

सीलिंग के मुद्दे पर बातचीत करने आई बीजेपी बीच में ही भाग गई : सीएम अरविंद केजरीवाल

केजरीवाल ने संवाददातों से कहा, "हमारे सभी विधायक और पार्षद भाजपा प्रतिनिधिमंडल (दिल्ली भाजपा इकाई प्रमुख मनोज तिवारी के नेतृत्व में) के साथ बैठक के लिए इकट्ठा हुए थे. उन्होंने सभी के सामने चर्चा करने से इनकार कर दिया."

792 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
सीलिंग के मुद्दे पर बातचीत करने आई बीजेपी बीच में ही भाग गई : सीएम अरविंद केजरीवाल

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने हंगामे के बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस की

नई दिल्ली: दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने मंगलवार को कहा कि भारतीय जनता पार्टी के जिस प्रतिनिधिमंडल ने उनसे शहर में जारी सीलिंग पर बात करने के लिए कहा था वह चर्चा छोड़कर चले गए. केजरीवाल ने संवाददातों से कहा, "हमारे सभी विधायक और पार्षद भाजपा प्रतिनिधिमंडल (दिल्ली भाजपा इकाई प्रमुख मनोज तिवारी के नेतृत्व में) के साथ बैठक के लिए इकट्ठा हुए थे. उन्होंने सभी के सामने चर्चा करने से इनकार कर दिया."  उन्होंने कहा, "इस बारे में कुछ भी गोपनीय नहीं है. यह कोई व्यक्तिगत मुद्दा नहीं है. यह एक सार्वजनिक मामला है. मैंने उनसे साथ बैठकर चर्चा करने और सीलिंग अभियान का समाधान ढूंढने की विनती की. लेकिन वे चले गए."   उन्होंने आगे कहा, "यह बहुत अच्छा अवसर था. दोनों राजनीतिक पार्टियां इस मामले पर चर्चा कर सकती थीं और उसके बाद समाधान सुझाने के लिए उपराज्यपाल से संपर्क कर सकती थीं." 

सीलिंग के मुद्दे पर अरविंद केजरीवाल के घर पर बीजेपी-'आप' के बीच तू-तू-मैं-मैं, खुले में बहस की चुनौती

टिप्पणियां
केजरीवाल ने दिल्ली के उपराज्यपाल और केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि दिल्ली में सीलिंग हो रही है लेकिन कोई कदम नहीं उठाया जा रहा है. उन्होंने एक तरह से चुनौती देते हुए कहा कि लोकतंत्र है बीजेपी को इस मुद्दे पर खुले में चर्चा करनी चाहिए. दिल्ली के सीएम ने कहा,   'सीलिंग से छोटे व्यापारी परेशान हैं सीलिंग का समाधान LG-केंद्र के पास है. बीजेपी नेता अकेले चर्चा चाहते थे. हम सबसे सामने चर्चा चाहते थे.  बातचीत में ज़िम्मेदारी तय होनी थी. एलजी नहीं चाहते कि सीलिंग रुके. सीलिंग पर रोक के लिए सुप्रीम कोर्ट जाएंगे. सीलिंग पर व्यापारियों से भी बात करेंगे. 351 सड़कों पर सीलिंग नहीं हो रही है'.

वीडियो : सीलिंग के मुद्दे पर घमासान

आपको बता दें कि सर्वोच्च न्यायालय के आदेश पर एक मॉनिटरिंग कमिटी द्वारा दिल्ली नगर निगम के जरिए व्यावसायिक उद्देश्यों के लिए आवासीय संपत्तियों का इस्तेमाल करने वाले व्यापारिक प्रतिष्ठानों के खिलाफ सीलिंग अभियान चलाया जा रहा है. इसी मामले पर भाजपा का प्रतिनिधिमंडल मंगलवार को मुख्यमंत्री आवास पर पहुंचा था. लेकिन वहां पहले से ही चल रहे आम आदमी पार्टी के धरना प्रदर्शन में हंगामा और धक्का-मुक्की शुरू हो गई. बीजेपी के विधायक विजेंद्र गुप्ता ने आरोप लगाया कि आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने उनके साथ मारपीट की है. इसकी शिकायत भी उन्हों ने पुलिस में दर्ज कराई है.  


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement