NDTV Khabar

सीएम केजरीवाल से मुलाकात से पहले मुख्य सचिव ने कहा -उम्मीद है मारपीट नही होगी

कैबिनेट बैठक से पहले मुख्य सचिव ने केजरीवाल को चिट्ठी लिखकर कहा कि 'आज की बैठक में मैं अपने दूसरे अफसरों के साथ आऊंगा. इस बैठक में हम ये मानकर आ रहे हैं कि इसमें कोई शारीरिक हमला या गाली गलौज नही होगी.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
सीएम केजरीवाल से मुलाकात से पहले मुख्य सचिव ने कहा -उम्मीद है मारपीट नही होगी

अरविंद केजरीवाल की फाइल फोटो

खास बातें

  1. कैबिनेट बैठक की वजह से मिल रहे सीएम और मुख्य सचिव
  2. मुख्य सचिव ने लिखी चिट्ठी
  3. आधिकारियों ने कहा अभी भी हमारा विरोध जारी
नई दिल्ली: दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल और मुख्य सचिव अंशु प्रकाश के बीच करीब एक हफ्ते बाद मुलाकात हो रही है. दरअसल दोनों कैबिनेट बैठक की वजह से मिल रहे हैं. इस मुलाकात से पहले मुख्य सचिव ने पिछले हफ्ते अपने साथ हुई मारपीट की घटना की याद दिलाई और कहा कि उम्मीद करता हूं मेरे साथ मारपीट नहीं होगी. गौरतलब है कि पिछले सप्ताह आम आदमी पार्टी के विधायकों ने मुख्य सचिव के साथ मारपीट की थी. इस घटना के बाद से ही दिल्ली के अधिकारियों ने काम करना छोड़ दिया था.

यह भी पढ़ें: सिसोदिया ने LG से नौकरशाहों को काम में सहयोग करने का आदेश देने का आग्रह किया

मंगलवार को होने वाली कैबिनेट बैठक से पहले मुख्य सचिव ने केजरीवाल को चिट्ठी लिखकर कहा कि 'आज की बैठक में मैं अपने दूसरे अफसरों के साथ आऊंगा. इस बैठक में हम ये मानकर आ रहे हैं कि इसमें कोई शारीरिक हमला या गाली गलौज नही होगी. उम्मीद है इस बैठक में अफसरों के सम्मान के रक्षा होगी.

यह भी पढ़ें: हर सरकारी बैठक को लाइव दिखाएगी केजरीवाल सरकार?

मुख्य सचिव ने अपनी चिट्ठी में साफ़ किया कि क्योंकि कैबिनेट की बैठक बजट सत्र की तारीख तय करने और बजट पास करने से जुड़ी है चीजों को लेकर की जा रही है, जो सरकार के कामकाज के लिए बेहद ज़रूरी है. इसलिए वह इस बैठक में शामिल हो रहे हैं. वही अधिकारियों के जॉइंट फोरम ने भी आज बैठक करके साफ़ किया कि मुख्य सचिव और दूसरे अधिकारी बजट से जुड़ी कैबिनेट की बैठक में जा तो जरूर रहे हैं लेकिन उनका विरोध आगे भी जारी रहेगा.

टिप्पणियां
VIDEO: दिल्ली में रिहाइशी इलाके में नहीं होंगे रेस्तरां 


बैठक के बाद जॉइंट फोरम के प्रवक्ता पंकज कुमार ने बताया कि 'ये बैठक बजट से जुड़ी है पब्लिक इंटरेस्ट में है इसलिए ये फैसला किया गया है. उन्होंने कहा कि अधिकारी पहले से भी ज्यादा काम कर रहे हैं. सभी अधिकारी तब तक लिखित संवाद किया जाएगा जब तक सीए और टिप्टी सीएम माफी नहीं मांगते. 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement