NDTV Khabar

गुरुग्राम छात्र हत्याकांड: कोर्ट ने CBI को दूसरा चार्जशीट दाखिल करने के लिए और समय दिया

एक सत्र अदालत ने हरियाणा के एक निजी स्कूल में सात वर्षीय लड़के की हत्या के मामले में सीबीआई को 14 मई तक पूरक आरोप पत्र दाखिल करने के आज निर्देश दिए.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
गुरुग्राम छात्र हत्याकांड: कोर्ट ने CBI को दूसरा चार्जशीट दाखिल करने के लिए और समय दिया

प्रतीकात्मक इमेज

खास बातें

  1. CBI को दूसरा चार्जशीट दाखिल करने के लिए और समय मिला
  2. 14 मई तक पूरक आरोप पत्र दाखिल करने के आज निर्देश दिए
  3. जांच एजेंसी ने आरोप पत्र दाखिल करने के लिए और समय मांगा था
गुरुग्राम: एक सत्र अदालत ने हरियाणा के एक निजी स्कूल में सात वर्षीय लड़के की हत्या के मामले में सीबीआई को 14 मई तक पूरक आरोप पत्र दाखिल करने के आज निर्देश दिए. जांच एजेंसी ने आरोप पत्र दाखिल करने के लिए और समय मांगा था. अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश जसबीर सिंह कुंडू ने सीबीआई की याचिका पर विचार करने के बाद उसे और समय दिया. एजेंसी ने कहा था कि इस मामले में जांच चल रही है और उसे पूरक आरोप पत्र दाखिल करने के लिए और समय चाहिए. अदालत ने निजी स्कूल के अधिकारियों फ्रांसिस थॉमस और जयेश थॉमस को 14 मई को अगली सुनवाई के दिन अदालत में हाजिर रहने के भी निर्देश दिए. इस बीच, 16 वर्षीय आरोपी छात्र की जुवेनाइल जस्टिस बोर्ड के आदेश को चुनौती देने वाली याचिका पर दलीलों में कहा गया कि यह न्यायसंगत आदेश नहीं है और उसे अपने मामले को पेश करने का उचित अवसर नहीं दिया गया. याचिका पर दलीलें आज पूरी हो गई. 

यह भी पढ़ें: रियान स्कूल हत्याकांड: 'क्या गुनाह था मेरे बच्चे का' इस गाने को सुनकर सबकी आंखों में आ जाते हैं आंसू

जुवेनाइल जस्टिस बोर्ड (जेजेबी) ने पिछले साल 20 दिसंबर को कहा था कि किशोर पर वयस्क की तरह मुकदमा चलाया जाएगा और उसे गुरुग्राम की सत्र अदालत के समक्ष पेश करने के निर्देश दिए थे. अदालत ने इससे पहले सीबीआई को जांच में तेजी लाने और आज की तारीख तक अंतिम प्रगति रिपोर्ट दाखिल करने के निर्देश थे. उसने इस हत्याकांड में बस कंडक्टर अशोक कुमार को भी बरी कर दिया था. सीबीआई ने कहा था कि इस अपराध में उसकी संलिप्तता का कोई सबूत नहीं है. इससे पहले, अदालत ने मीडिया को इस मामले में 16 वर्षीय नाबालिग आरोपी के नाम का इस्तेमाल करने से रोक दिया था. 

यह भी पढ़ें: भोंडसी गांव के लोगों ने कहा, गुड़गांव में स्कूल बस पर हमले के मामले में पकड़े गए लोग निर्दोष 

टिप्पणियां
अदालत ने कहा था कि सात वर्षीय पीड़ित को ‘‘प्रिंस’’ कहा जाए. जबकि, नाबालिग आरोपी को ‘‘भोलू’’ और स्कूल का नाम ‘‘ विद्यालय’’ कहा जाए. सीबीआई ने आरोप पत्र में आरोप लगाया कि नाबालिग छात्र ने स्कूल में परीक्षा टालने और निर्धारित अभिभावक-शिक्षा बैठक रद्द कराने के लिए पिछले साल सितंबर में बच्चे की हत्या कर दी थी. जांच एजेंसी ने पहले इस मामले में गुरुग्राम पुलिस द्वारा गिरफ्तार किए स्कूल बस कंडक्टर अशोक कुमार को क्लीन चिट दे दी थी.

VIDEO:गुरुग्राम हिंसा: ड्राइवर ने बताया, 15 लोगों ने किया था स्‍कूल बस पर हमला
सीबीआई ने इस जघन्य हत्याकांड को लेकर देशभर में रोष व्याप्त होने के बाद 22 सितंबर को गुरुग्राम पुलिस से इस मामले की जांच अपने हाथ में ले ली थी.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement