Delhi Air Pollution: प्रदूषण खतरनाक स्तर पर- अगले दो दिनों तक बंद रहेंगे दिल्ली-NCR के सभी स्कूल

प्रदूषण के खतरनाक स्तर को देखते हुए दिल्ली-NCR के सभी सरकारी और निजी स्कूलों को दो दिनों तक (14-15 नवंबर) बंद रखने का फैसला किया गया है.

Delhi Air Pollution: प्रदूषण खतरनाक स्तर पर- अगले दो दिनों तक बंद रहेंगे दिल्ली-NCR के सभी स्कूल

दिल्ली-NCR के सभी स्कूल अगले दो दिनों तक बंद रहेंगे. (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

प्रदूषण के खतरनाक स्तर को देखते हुए दिल्ली-NCR के सभी सरकारी और निजी स्कूलों को दो दिनों तक (14-15 नवंबर) बंद रखने का फैसला किया गया है. दिल्ली में प्रदूषण स्तर बढ़ने के बाद पर्यावरण प्रदूषण नियंत्रण एवं रोकथाम प्राधिकरण (EPCA) द्वारा स्कूलों को बंद रखने को कहा था. इसके बाद दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने ट्वीट कर इसका ऐलान कर दिया. वहीं, गौतमबुद्ध नगर डीएम ने भी आदेश जारी कर जिले में 12वीं तक के सभी सरकारी और प्राइवेट स्कूलों को बंद करने का आदेश दिया है.

दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने ट्वीट किया, 'उत्तर भारत में पराली प्रदूषण के कारण बिगड़ते हालात को देखते हुए दिल्ली सरकार ने दिल्ली के सभी सरकारी और प्राइवेट स्कूल कल और परसों (गुरुवार और शुक्रवार) के लिए बंद करने का निर्णय लिया है.

bvkd77fo

वहीं, गौतमबुद्ध नगर के जिलाधिकारी बृजेश नारायण सिंह ने 14-15 नवंबर तक जिले के सभी सरकारी व निजी स्कूलों को बंद रखने का आदेश जारी किया है. डीएम की तरफ से जारी आदेश में कहा गया है कि नर्सरी कक्षा से 12वीं कक्षा तक के सभी स्कूलों को 2 दिन के लिए बंद रखा जाएगा. जिलाधिकारी ने बताया कि बढ़ते प्रदूषण की वजह स्कूलों स्कूलों को बंद रखने का आदेश दिया गया है.

इसके अलावा पर्यावरण प्रदूषण (रोकथाम और नियंत्रण) प्राधिकरण ने दिल्ली-एनसीआर में ''हॉट-मिक्स प्लांट्स'' और ''स्टोन-क्रशर'' पर लगे प्रतिबंध को भी 15 नवंबर तक बढ़ा दिया. शीर्ष अदालत ने चार नवंबर को अगले आदेश तक क्षेत्र में निर्माण और विध्वंस गतिविधियों पर रोक लगा दी थी. वहीं, दिल्ली के स्कूलों में बाहरी गतिविधियों को बुधवार को स्थगित कर दिया गया, क्योंकि पिछले 15 दिनों में तीसरी बार मौसम की प्रतिकूल परिस्थितियों ने शहर में प्रदूषण के स्तर को "आपातकालीन" स्तर की ओर धकेल दिया.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

इस महीने की शुरुआत में, दिल्ली सरकार ने बढ़ते प्रदूषण के स्तर के मद्देनजर दिल्ली-एनसीआर क्षेत्र में सार्वजनिक स्वास्थ्य आपातकाल घोषित करने के बाद सभी स्कूलों को चार दिनों के लिए बंद कर दिया था. वायु गुणवत्ता में सुधार के बाद 5 नवंबर को स्कूल फिर से खुले थे. शहर का औसत वायु गुणवत्ता सूचकांक मंगलवार की शाम चार बजे 425 था जो बुधवार को शाम चार बजे 456 दर्ज किया गया. रोहिणी और द्वारका सेक्टर आठ शहर के सबसे अधिक प्रदूषित इलाके रहे जहां एक्यूआई 494, नेहरू नगर 491 और जहांगीरपुरी 488 दर्ज की गई. इसके साथ ही फरीदाबाद (448), गाजियाबाद (481), ग्रेटर नोएडा (472), गुरुग्राम (445) और नोएडा (479) में भी लोगों का दम घुटता रहा.

(इनपुट: भाषा से भी)