NDTV Khabar

दिल्ली के इस एरिया में एयर क्वालिटी इंडेक्स 500 के पार, हेल्थ एमरजेंसी घोषित, जानिए बचने के तरीके

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने 1 नवंबर को प्रेस कॉन्फ्रेंस में इस खतरनाक प्रदूषण की वजह पंजाब और हरियाणा में जलती पराली को बताया. साथ ही प्रदूषण को कम करने के पहल में ऑड-ईवन (Odd-Even) के बारे में भी चर्चा की.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
दिल्ली के इस एरिया में एयर क्वालिटी इंडेक्स 500 के पार, हेल्थ एमरजेंसी घोषित, जानिए बचने के तरीके

जानिए इस प्रदूषण से बचने के तरीके

नई दिल्ली:

देश की राजधानी दिल्ली के लोधी रोड एयर क्वालिटी इंडेक्स (Air Quality Index) 500 पार हो चुका है, जो कि बहुत ही खतरनाक स्तर है. प्रदूषण के इस स्तर को देख दिल्ली में हेल्थ एमरजेंसी घोषित कर दी गई है. लोधी रोड एरिया में पीएम2.5 (PM2.5) और पीएम10 (PM10) दोनों ही 500 पाए गए. दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने 1 नवंबर को प्रेस कॉन्फ्रेंस में इस खतरनाक प्रदूषण की वजह पंजाब और हरियाणा में जलती पराली को बताया. साथ ही प्रदूषण को कम करने के पहल में ऑड-ईवन (Odd-Even) के बारे में भी चर्चा की. दिल्ली में 4 नवंबर सोमवार से 12 दिन तक वाहनों को सम-विषम के आधार पर चलाने की योजना जारी रहेगी. 

इसके अलावा, एयरविजुअल डॉट कॉम के अनुसार एक नवंबर (शुक्रवार) के दिन दुनिया के 10 प्रमुख शहरों में प्रदूषित हवा के मामले में दिल्ली पहले नंबर पर रही. अन्य नौ शहरों में दूसरे नंबर पर पाकिस्तान का लाहौर (343), उसके बाद मंगोलिया का उलानबटार (168), बांग्लादेश का ढाका (164), भारत का कोलकाता (159), पोलैंड का क्राको (158), पोलैंड का रॉक्ला (155), चीन का वुहान (155), चीन का गुआंगझो (155) और चीन का चोंगकिंग (153) शहर शामिल हैं.

भयावहता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि डब्ल्यूएचओ ने 2018 ग्लोबल डाटाबेस रिपोर्ट में कहा था कि दुनिया के 20 सबसे प्रदूषित शहरों की सूची में 14 भारत के हैं. भारत में हर साल 20 लाख से ज्यादा लोग प्रदूषित हवा की वजह से काल के गाल में समा जाते हैं. दुनिया में प्रदूषित हवा से हर चार मौतों में से एक भारत में होती है. आश्चर्यजनक यह है कि 2018 में आई इस रिपोर्ट में भी दिल्ली भारत का सबसे प्रदूषित शहर था और आज भी यह पहले नंबर पर है. 


दिवाली के बाद वायु प्रदूषण में हुए इजाफे के साथ राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के अस्पतालों में मरीजों की संख्या बढ़ गई है. अस्पताल पहुंचने वाले मरीजों में अधिकतर सांस की तकलीफ और आंखों की समस्याओं से घिरे लोग शामिल हैं. मरीज़ो में 20-22 फीसदी की वृद्धि देखी गई, जहां मरीजों को आंखों और गले में जलन, शुष्क त्वचा, त्वचा की एलर्जी, पुरानी खांसी और सांस लेने में परेशानी जैसे लक्षणों का सामना करना पड़ रहा है." वहीं, वायु गुणवत्ता जीवन सूचकांक (एक्यूएलआई) के विश्लेषण से पता चलता है कि गंगा के मैदानी क्षेत्र में रह रहा हर नागरिक औसत रूप से अपनी जीवन प्रत्याशा सात साल खो सकता है. 

यहां जानिए इस प्रदूषण से बचने के तरीके (Ways to avoid Air Pollution)

1. बढ़ते प्रदूषण का बड़ा कारण गाड़ियां हैं, ऐसे में कम से कम वाहन का इस्तेमाल करें. आप आने जाने के लिए सार्वजनिक परिवहन का उपयोग कर सकते हैं.
2. घर के बाहर मास्क लगाकर निकलें. प्रदूषण से बचने के लिए एन-95 (N-95) से ऊपर के ही मास्क खरीदने चाहिए. ये मास्क आपको सूक्ष्म कणों से भी बचाते हैं.
3. खतरनाक प्रदूषण स्तर पर घर के बाहर कसरत करने से बचें.
4. घर में साफ सफाई का ध्यान रखें, धूल और मिट्टी जमा न होने दें.
5. प्रदूषण में कई लोगों को सांस लेने में ज्यादा पेरशानी होती है, ऐसे में डॉक्टर को जरूर दिखाएं.
6. अपने घर में अच्छा वातावरण बनाएं, घर में पौधे लगाएं जिससे आपको शुद्ध हवा मिल सके.
7. ऐसे वातावरण में बाहर से घर वापस आने के बाद  मुंह, हाथ और पैर साफ पानी से धोएं.
8. आप अपने घर में शुद्ध हवा के लिए एयर प्यूरीफायर लगवा सकते हैं.
9. ऐप का सहारा लें, जिस एरिया में ज्यादा प्रदूषण हो वहां जाना अवॉइड करें.
10. खाने में विटामिन-सी, ओमेगा-3 जैसे शहद, लहसुन, अदरक का ज्यादा से ज्यादा इस्तेमाल करें. इसके साथ ही ज्यादा से ज्यादा पानी पीएं.

लाइफस्टाइल से जुड़ी और खबरें...

खराब हवा 7 साल घटा रही है उत्तर भारतीयों की जिंदगी, जानिए इससे बचने के तरीके

Delhi Air Pollution: दिल्ली की प्रदूषित हवा से बचने के 10 आसान तरीके

टिप्पणियां

H-BDAY Aishwarya Rai: जब मिस वर्ल्ड बनीं 'दुनिया की सबसे खूबसूरत महिला'...देखिए 25 साल पुराना VIDEO

#Throwback: स्मृति ईरानी और मलाइका अरोड़ा की इन सालों पुरानी तस्वीरों को देख लोग बोले - OMG!



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement