कुछ दिनों की राहत के बाद फिर जहरीली हुई Delhi-NCR की हवा, गुरुवार को और भी बिगड़ेगा AQI

कुछ दिनों तक धुंध (Smog) और प्रदूषण (Pollution) से राहत मिलने के बाद राजधानी दिल्ली और उसके आस-पास के इलाकों (Delhi-NCR) की मुसीबत फिर से बढ़ गई है.

कुछ दिनों की राहत के बाद फिर जहरीली हुई  Delhi-NCR की हवा, गुरुवार को और भी बिगड़ेगा AQI

दिल्ली-एनसीआर का एक्यूआई इंडेक्स (AQI Index) बिगड़ गया है.

खास बातें

  • राजधानी दिल्ली और उसके आस-पास के इलाकों की मुसीबत फिर से बढ़ गई है.
  • गुरुवार तक प्रदूषण की स्थिति बहुत ही बुरी हालत तक पहुंच जाएगी.
  • संसद में भी उठ चुका है प्रदूषण का मुद्दा.
नई दिल्ली:

कुछ दिनों तक धुंध (Smog) और प्रदूषण (Pollution) से राहत मिलने के बाद राजधानी दिल्ली और उसके आस-पास के इलाकों (Delhi-NCR) की मुसीबत फिर से बढ़ गई है. एक बार फिर से दिल्ली-एनसीआर का एक्यूआई इंडेक्स (AQI Index) बिगड़ गया है. दिल्ली-एनसीआर के कुछ इलाकों में स्थिति बहुत खराब है, जहां AQI 300 पहुंच गया है. हालांकि कुछ दिन पहले दिल्ली की हवा थोड़ी साफ हुई थी लेकिन ऐसा ज्यादा दिन नहीं रह सका. मीडिया रिपोर्ट की मानें तक गुरुवार तक प्रदूषण की स्थिति खराब हालत तक पहुंच जाएगी.

यह भी पढ़ें- टॉप-10 प्रदूषित शहरों से बाहर हुआ दिल्ली, सबसे ज्यादा यूपी के सात शहर- देखें पूरी लिस्ट

इससे पहले प्रदूषण का मसला संसद (Parliament) में भी उठा था. मंगलवार को लोकसभा में कांग्रेस नेता मनीष तिवारी (Manish Tiwari)और बीजद सांसद पिनाकी मिश्रा (Pinaki Misra) ने प्रदूषण पर चर्चा की शुरुआत की थी. हालांकि ज्यादातर सांसद इस चर्चा से नदारद ही दिखे. दिल्ली में जहां 311 एक्यूआई के साथ सबसे जहरीली हवा जहांगीर पुरी में दर्ज की गई. वहीं गाजियाबाद (256), नोएडा (227) और ग्रेटर नोएडा (218)  में हवा की गुणवत्ता बहुत बुरी रही. इसी तरह गुरुग्राम में भी एक्यूआई 333 रहा.

यह भी पढ़ें- प्रदूषण पर सांसद कितने गंभीर? संसद में चर्चा के दौरान 100 से भी कम थे मौजूद, AAP के इकलौते MP भगवंत मान भी रहे गैरहाजिर

इससे पहले सोमवार को सुप्रीम कोर्ट ने प्रदूषण पर नियंत्रण व रोकथाम रखने वाली संस्था ईपीसीए (EPCA) को प्रदूषण में रोकथाम के लिए निगरानी बढ़ाने, प्रदूषण स्रोतों की पहचान करने और पराली जलाने पर नजर रखने के निर्देश दिए थे. बता दें कि सोमवार की सुबह जहां दिल्ली का AQI 211 था वहीं  मंगलवार को यह 218 पहुंच गया. गौरतलब है कि साल 2018 में जहां पराली जलाने के 40 हजार से ज्यादा मामले दर्ज हुए थे वहीं इस साल नवंबर में यह आंकड़ा 48 हजार पहुंच गया है.

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com