धरने पर दिल्ली सरकार : कुछ इस तरह से बीती अरविंद केजरीवाल और उनके साथ बैठे 'आप' के नेताओं की रात

केजरीवाल दिल्ली सरकार की डोर टू डोर राशन योजना को मंज़ूरी देने और पिछले चार महीने से सरकार के कामकाज का बहिष्कार करनेवाले अधिकारियों पर कार्रवाई की मांग कर रहे हैं.

धरने पर दिल्ली सरकार : कुछ इस तरह से बीती अरविंद केजरीवाल और उनके साथ बैठे 'आप' के नेताओं की रात

धरने पर दिल्ली सरकार

नई दिल्ली:

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल एक बार फिर धरने पर हैं. वह उपराज्यपाल अनिल बैजलके घर पर सोमवार की शाम से धरने पर बैठे है. उनके साथ डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया, मंत्री गोपाल राय, सत्येंद्र जैन भी हैं. आम आदमी पार्टी के ये सभी नेता उपराज्यपाल के घर पर बने वेटिंग रूम में डेरा जमाकर बैठे हैं. जहां पर रात भर एसी चलता रहा. वहीं रात को खाना भी खाया और सुबह चाय पी. केजरीवाल के साथ उनका कोई भी विधायक और सहायक नहीं था. मुख्यमंत्री, उपमुख्यमंत्री, और मंत्रियों के सहायक वेटिंग रुम के बाहर ही हैं. रात में किसी भी विधायक को अंदर नहीं जाने दिया गया. एलजी हाउस जाने वाले सभी रास्तों को बंद कर दिया गया है और आई कार्ड देखकर ही जाने दिया जा रहा है. सुरक्षा को देखते हुये दिल्ली पुलिस और पैरामिलिट्री फोर्स भारी तादात में तैनात है.

दिल्ली को पूर्ण राज्य का दर्जा दिलाने की लड़ाई लड़ेगी 'आप', केजरीवाल ने दिया 'LG दिल्ली छोड़ो'  का नारा 

केजरीवाल दिल्ली सरकार की डोर टू डोर राशन योजना को मंज़ूरी देने और पिछले चार महीने से सरकार के कामकाज का बहिष्कार करनेवाले अधिकारियों पर कार्रवाई की मांग कर रहे हैं. केजरीवाल का आरोप है कि एलजी इस मामले में ढीला-ढाला रवैया अपना रहे हैं. अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट कर कहा कि उनके पास सीबीआई, पुलिस, ईडी, आईटी, आईएएस, एसीबी- सब कुछ है. फिर वो इतना घबराए क्यों हैं? हमारे साथ सत्य है, आत्मबल है. इसीलिए चेहरों पर सुकून और मुस्कान है. सत्य में बड़ी ताक़त होती है.


वीडियो : अरविंद केजरीवाल फिर बने ‘धरना कुमार’​

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com