मुख्य सचिव से बदसलूकी के ख़िलाफ हड़ताल पर अफ़सर, कहा- जब तक कार्रवाई नहीं होती, काम नहीं करेंगे

इससे पहले आईएएस अधिकारियों की एसोसिएशन ने इस मुद्दे पर एक बैठक की थी.

मुख्य सचिव से बदसलूकी के ख़िलाफ हड़ताल पर अफ़सर, कहा- जब तक कार्रवाई नहीं होती, काम नहीं करेंगे

मुख्य सचिव से बदसलूकी के ख़िलाफ हड़ताल पर आईएएस अधिकारी

खास बातें

  • बीती रात केजरीवाल के घर गए थे चीफ सेक्रेटरी
  • आप के दो विधायकों ने कथित तौर पर किया हमला
  • चीफ सेक्रेटरी ने एलजी से भी की शिकायत
नई दिल्ली:

दिल्ली के मुख्य सचिव अंशु प्रकाश के साथ मुख्यमंत्री आवास पर बदसलूकी के विरोध में दिल्ली के अफसर तुरंत प्रभाव से हड़ताल पर चले गए हैं. यह लोग जांच पूरी होने तक बदसलूकी के आरोपी विधायकों को बर्खास्त करने की मांग कर रहे हैं. इधर आईएएस एसोसिएशन इस मुद्दे को लेकर एलजी से मिले.

पढ़ें : जानिये सीएम केजरीवाल क्या बोले, जब DU की एक छात्रा ने कहा- हैप्पी वैलेंटाइन डे

दिल्ली के मुख्य सचिव अंशु प्रकाश के साथ बीती रात मुख्यमंत्री आवास पर मुख्यमंत्री की मौजूदगी में विधायकों ने बदसलूकी और धक्कामुक्की की, जिसके बाद मुख्य सचिव ने रात में ही एलजी से मिलकर इसकी शिकायत की. अफ़सरों का कहना है कि 3 साल केजरीवाल के विज्ञापन पर विवाद हुआ, जबकि सरकार का कहना है कि विवाद 2.5 लाख लोगों को राशन न मिलने पर हुआ. वहीं इस मामले में आरोपी विधायक अमानतुल्लाह ख़ान का कहना है कि विधायकों ने नहीं, मुख्य सचिव ने बदसलूकी की है. 

बता दें कि दिल्ली के चीफ सेक्रेटरी के साथ सीएम अरविंद केजरीवाल के आवास पर बदसलूकी का आरोप लगा है. यह आरोप फिजिकली असॉल्ट का है. बताया जा रहा है कि यह घटना सोमवार देर रात की है. कहा जा रहा है कि आम आदमी पार्टी के दो विधायकों ने केजरीवाल के इशारे पर की चीफ सेक्रेटरी अंशु प्रकाश से बदतमीजी और धक्का मुक्की की है. मीडिया में आई खबरों के मुताबिक विधायकों ने चीफ सेक्रेटरी को थप्पड़ मारा है. 

VIDEO: आप का दावा

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

कहा जा रहा है कि तीन साल केजरीवाल के ऐड को लेकर हुई खींचतान में सीएस के साथ बदसलूकी की गई है.

उधर, आम आदमी पार्टी ने इन आरोपों का खंडन किया है. आप ने ट्विटर के जरिए आरोपों को गलत बताया है. आप का आरोप है कि अधिकारी सीएम और विधायकों के सवालों का जवाब नहीं दे रहे थे. उन्होंने एलजी के प्रति जवाबदेही के बात कहकर जवाब नहीं दिया. अब बाहर जाकर बीजेपी के इशारे पर यह सब कर रहे हैं.