दिल्ली: कोरोनावायरस जांच के लिए निजामुद्दीन मरकज़ से करीब 200 लोग ले जाए गए, 2,000 हुए क्वारंटाइन

दिल्ली के निजामुद्दीन के तब्लीगी जमात के मरकज से करीब 200 लोगों को कोरोना वायरस (Coronavirus) की जांच के लि दिल्ली के अलग-अलग अस्पतालों में ले जाया गया है. इस मरकज में विदेश से भी लोग आए हुए थे.

दिल्ली: कोरोनावायरस जांच के लिए निजामुद्दीन मरकज़ से करीब 200 लोग ले जाए गए, 2,000 हुए क्वारंटाइन

दिल्ली में एक जगह से पहली बार इतनी बड़ी संख्या में लोगों को कोरोना जांच के लिए भिजवाया गया है.

नई दिल्ली:

दिल्ली के निजामुद्दीन के तब्लीगी जमात के मरकज से करीब 200 लोगों को कोरोना वायरस (Coronavirus) की जांच के लि दिल्ली के अलग-अलग अस्पतालों में ले जाया गया है. इस मरकज में विदेश से भी लोग आए हुए थे. जिन लोगों को जांच के लिए ले जाया गया उनमें से एक की मौत हुई है, जो तमिलनाडु का रहने वाला बताया जा रहा है. हालांकि अभी यह साफ नहीं है कि उसकी मौत की वजह क्या है. इसके बाद पुलिस ने पूरे इलाके को सील कर दिया है. पुलिस पूरे इलाके की ड्रोन से निगरानी कर रही है. पुलिस लगातार पेट्रोलिंग भी कर रही है, जिससे यह सुनिश्चित किया जाए कि कोई बाहर न घूम रहा हो. पुलिस सूत्रों के अनुसार, अभी करीब एक हजार लोग इस्लामिक प्रचार प्रसार सेंटर के अंदर हैं.

इस इस्लामिक सेंटर में 15 देशों के 100 से ज्यादा विदेशी हैं, बाकी करीब 1000 भारतीय इसके अंदर हैं. किसी को भी बाहर निकलने की परमिशन नहीं है. करीब 200 लोगों को अलग-अलग अस्पतालों में ले जाया गया है. इन्हें खांसी और बुखार की शिकायत है. निजामुद्दीन इलाके में करीब 2000 लोगों को क्वारंटाइन किया गया है. कुछ लोगों को दिल्ली के दूसरे इलाकों में शिफ्ट किया गया है. जम्मू-कश्मीर के श्रीनगर में हुई एक मौत के इनसे कनेक्शन की बात सामने आ रही है. एहतियातन घाटी में भी लोगों को क्वारंटाइन किया जा रहा है. बता दें कि दिल्ली में अब तक कोरोना वायरस के 72 मामले सामने आ चुके हैं. राजधानी में दो संक्रमितों की मौत हो चुकी है.

लॉकडाउन के बीच CM योगी ने मनरेगा के तहत 27.5 लाख मजदूरों को बांटे 611 करोड़ रुपये

बता दें कि दिल्ली में कोरोना वायरस के इलाज में लगी पूरी मेडिकल टीम के लिए दिल्ली सरकार ने व्यवस्था बनाई है. सभी मेडिकल टीम 2 शिफ्ट में काम करेंगी. एक टीम सुबह 8 बजे से लेकर शाम के 6 बजे तक, यानी 10 घंटे काम करेगी, तो दूसरी टीम शाम 6 बजे से लेकर अगले दिन सुबह 8 बजे तक, यानी 14 घंटे काम करेगी. डॉक्टर, नर्स और पैरामेडिकल स्टाफ लगातार 14 दिन बिना किसी छुट्टी या ब्रेक के काम करेंगे. 14 दिन लगातार काम करने के बाद इनको 14 दिन का ब्रेक दिया जाएगा. इस दौरान इनके रहने/रुकने की व्यवस्था अस्पताल करेगा. दिल्ली में ऐसे 21 अस्पताल हैं, जिन पर यह आदेश लागू होगा. दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन के आदेश पर यह व्यवस्था बनाई गई है.

कोरोना की वजह से लंदन में फंसी FIR की एक्ट्रेस, फल और जूस पर कर रही हैं गुजारा, बोलीं- डर लग रहा है...

गौरतलब है कि दुनिया के साथ-साथ भारत में भी कोरोना वायरस का कहर तेजी से बढ़ता जा रहा है. 180 से ज्यादा देशों में फैल चुका यह वायरस अब तक 32,000 से ज्यादा जानें ले चुका है. दुनियाभर में करीब 6 लाख लोग इससे संक्रमित हैं. भारत में इस वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या 1071 हो गई है. बीते रविवार इसके 106 नए मामले सामने आए. देश में अभी तक 29 लोगों की मौत हो चुकी है, हालांकि 100 मरीज इस बीमारी को हराने में कामयाब भी हुए हैं. देश के सभी राज्यों से इसके मरीज सामने आ रहे हैं. केंद्र सरकार ने इससे बचाव के चलते ही देश में 21 दिनों के लॉकडाउन की घोषणा की है.14 अप्रैल को यह लॉकडाउन खत्म होगा.

VIDEO: जो कोरोना को पराजित कर चुके हैं आज हमें उनसे प्रेरणा लेनी है : PM मोदी

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com