NDTV Khabar

डोरस्टेप डिलीवरी रियलिटी चेक : अब तक कुल 624 अपॉइंटमेंट, 74 के घर पहुंची दिल्ली सरकार

हेल्पलाइन पर कॉल करना बहुत मुश्किल, अपॉइंटमेंट तय होने के बावजूद 24 घंटे तक कोई नहीं पहुंचा

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
डोरस्टेप डिलीवरी रियलिटी चेक : अब तक कुल 624 अपॉइंटमेंट, 74 के घर पहुंची दिल्ली सरकार

डोरस्टेप डिलीवरी योजना की हेल्पलाइन पर कॉल न लगने से लोगों को खुद पहुंचना पड़ रहा है.

नई दिल्ली:

दिल्ली की केजरीवाल सरकार ने 40 सेवाओं की डोर स्टेप डिलीवरी शुरू कर दी है. यानी आपके ये सारे काम घर बैठे होंगे. इसके लिए सरकारी कर्मचारी आपके घर आएंगे. लेकिन इस योजना का फिलहाल क्या हाल है. यह जानने की हमने कोशिश की  इस योजना को शुरू हुए मंगलवार दूसरा दिन था.

पूर्वी दिल्ली के प्रीत विहार में रहने वाले विनीत गुप्ता प्रॉपर्टी का काम करते हैं. कुछ समय पहले इनका ड्राइविंग लाइसेंस टूट गया. जब पता चला कि घर बैठे वो अपना डुप्लिकेट लाइसेंस बनवा सकते हैं तो सोमवार दोपहर इन्होंने 1076 पर फोन किया. कई बार कोशिश के बाद शाम 7:10 का अपॉइंटमेंट फिक्स हुआ लेकिन सोमवार के 7:10 बजे से लेकर मंगलवार के 7:10 बज गए न कोई फोन आया न कोई डॉक्यूमेंट कलेक्ट करने आया.

विनीत गुप्ता के मुताबिक ' मैंने 38 बार फोन किया तब भी नहीं लगा लेकिन जब अपनी पत्नी के फोन से फोन किया तब तीसरी चौथी बार में जाकर फोन लगा. लगभग 14 मिनट बात हुई और उन्होंने बताया कि 500 रुपये की फीस लगेगी और 50 रुपये सर्विस चार्ज है. शाम 7:10 का अपॉइंटमेंट फिक्स हुआ. उन्होंने यह भी कहा कि शाम 7:00 बजे से लेकर रात 10:00 बजे तक कभी भी हमारा प्रतिनिधि आपके पास आ सकता है, लेकिन सोमवार शाम के 7:00 बजे से लेकर मंगलवार शाम के 7:00 बज गए न कोई फोन आया न कोई डॉक्यूमेंट कलेक्ट करने आया, न ही किसी ने किसी तरह की कोई सूचना दी.'


यह भी पढ़ें : डोर स्टेप डिलीवरी सेवा : केजरीवाल ने कहा मंत्री की इजाजत के बिना खारिज नहीं होगा कोई आवेदन

उत्तर पूर्वी दिल्ली के रामनगर में रहने वाली हरजीत कौर अपनी बेटी को स्कूल में स्कॉलरशिप दिलवाने के लिए आय प्रमाण पत्र बनवाने नंद नंगरी के DC ऑफिस पहुंची. कहती हैं 1076 पर सोमवार और मंगलवार दोनों दिन जमकर फ़ोन किए लेकिन जवाब मिलता है कि यह गलत नंबर है. इसलिए सुबह से नंद नगरी के डीसी ऑफिस में अपने बच्चे के साथ लाइन में लगी हुई हैं. हरजीत कौर के मुताबिक ' मैंने 15-16 फोन से मिलाकर देख लिया यह बोलते हैं कि रॉंग नंबर है कल सुबह से कर रही हूं. कल रात को भी किया सुबह में भी किया और यह रॉंग नंबर बता रहे हैं. मैं कल से ट्राई कर रही हूं और आज भी ट्राई किया अब हार के इस छोटे से बच्चे को लेकर आई हूं.'

उत्तर पूर्वी दिल्ली के ही मोहम्मद चांद अपने बेटे के स्कूल में स्कूल में देने के लिए आय प्रमाण पत्र बनवाने DC ऑफिस पहुंचे. इनको केजरीवाल सरकार की डोरस्टेप डिलीवरी योजना की जानकारी नहीं थी. डीसी ऑफिस में जानकारी तो मिली लेकिन फायदा नहीं मिला क्योंकि 1076 पर कॉल किया तो जवाब मिला 'the number u have dial is incorrect.'

दिल्ली सरकार के आंकड़ों के मुताबिक सोमवार सुबह 10 बजे से मंगलवार को शाम 5 बजे तक कुल 13,783 कॉल्स हेल्पलाइन से कनेक्ट हुए. इनमें से 4,758 कॉल्स के जवाब दिए गए. बाकी कॉल्स वेटिंग लाइन पर थे जिन्हें कॉल बैक किया जा रहा है. कुल 8,101 कॉलरों को एसएमएस भेजा गया है जिनकी कॉल्स का जवाब नहीं दिया जा सका. अब तक सिर्फ़ 624 एप्वाइंटमेंट फिक्स की गए. जबकि सिर्फ़ 74 लोगों के घर तक ही दिल्ली सरकार के प्रतिनिधि पहुंच पाए.

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के तकनीकी सलाहकार और डॉक्टर डिलीवरी का आईडिया देने वाले गोपाल मोहन के मुताबिक 'यह जो भी मैसेज आ रहे हैं कि यह नंबर मौजूद नहीं है या यह नंबर गलत है वह इसलिए आ रहे हैं क्योंकि हमारी जितनी भी लाइंस थीं वह सारी व्यस्त होने के बाद जो वेटिंग लाइंस थीं वह भी सारी बिजी हो गईं. तो इस वजह से जो BSNL ऑपरेटर है वह इसको हैंडल नहीं कर पा रहा और उसकी तरफ से इस तरह के मैसेज आ रहे हैं. लेकिन हम इस पर काम कर रहे हैं और जल्द स्थिति सुधर जाएगी. जहां तक बात है कि 24 घंटे तक कोई प्रतिनिधि आवेदक तक नहीं पहुंचा तो ऐसा होना बहुत मुश्किल है लेकिन फिर भी अगर ऐसा है तो इसकी जांच की जाएगी और हमारे सिस्टम में सारा ट्रैक रहता है. उस प्रतिनिधि के बारे में बात बात करके उस पर कार्रवाई की जाएगी.'

टिप्पणियां

VIDEO : 40 सेवाओं की होम डिलीवरी

केवल केजरीवाल सरकार की यह योजना नहीं बल्कि किसी भी सरकार ज़्यादातर योजनाएं अच्छी ही होती हैं लेकिन वह कितनी कारगर और कामयाब हैं इस बात का मूल्यांकन इस बात से होता है कि उनको कितने अच्छे तरीके से लागू किया गया है उम्मीद करनी चाहिए कि इस योजना के शुरुआत में आ रही समस्या को दिल्ली सरकार जल्द से जल्द दूर करेगी जिससे की आम लोगों के भले के लिए बनी योजना से आम लोगों को वाकई फायदा और राहत मिल पाए.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement