NDTV Khabar

...आखिरकार दिल्ली पुलिस की गिरफ्त में आ ही गया 'कसमू के कट्टे' वाला कसमू

हाल ही के वर्षों में दिल्ली पुलिस ने कई ऐसे अपराधी पकड़े जिनके पास 'कसमू के कट्टे' बरामद हुए. ये सस्ते देशी कट्टे कसमू की फैक्ट्री में बने होते थे. कसमू अपराध की दुनिया का एक जाना-माना नाम हो गया था. दिल्ली पुलिस उसकी लंबे समय से तलाश कर रही थी.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
...आखिरकार दिल्ली पुलिस की गिरफ्त में आ ही गया 'कसमू के कट्टे' वाला कसमू

दिल्ली पुलिस ने हथियारों का ज़खीरा ग़ाज़ियाबाद के लोनी इलाके से बरामद किया है.

नई दिल्ली: हाल ही के वर्षों में दिल्ली पुलिस ने कई ऐसे अपराधी पकड़े जिनके पास 'कसमू के कट्टे' बरामद हुए. ये सस्ते देशी कट्टे कसमू की फैक्ट्री में बने होते थे. कसमू अपराध की दुनिया का एक जाना-माना नाम हो गया था. दिल्ली पुलिस उसकी लंबे समय से तलाश कर रही थी. आखिरकार रविवार को पुलिस ने ग़ाज़ियाबाद के लोनी इलाके में उसकी अवैध हथियारों की फैक्ट्री का भंडाफोड़ कर बड़ी मात्रा में अवैध हथियार और कारतूस बरामद किए. अपराध की दुनिया में इस फैक्ट्री से बने कट्टे 'कसमू के कट्टे' नाम से जाने जाते हैं.

दिल्ली पुलिस ने हथियारों का ज़खीरा ग़ाज़ियाबाद के लोनी इलाके से बरामद किया है. इनमें अलग-अलग बोर के 16 देशी कट्टे और 80 से ज्यादा कारतूस बरामद हैं. यही नहीं बड़ी मात्रा में अवैध हथियार बनाने का सामान भी मिला है. एक कट्टे की कीमत महज़ 5 से 7 हज़ार रुपये जबकि कारतूस की 200 से 400 रुपये है. पुलिस के मुताबिक राजधानी दिल्ली में अब तक मुंगेर और खरगौन से हथियार लाने के मामले सामने आए हैं लेकिन ये हैरानी वाली वाली बात है कि दिल्ली से सटे लोनी में ही हथियारों फैक्ट्री चल रही थी.

जॉइंट कमिश्नर रविन्द्र यादव के मुताबिक अवैध हथियारों की फैक्ट्री चलाने वाले कसमुद्दीन और उसके 2 साथियों अजय और हाशिम को गिरफ्तार कर लिया गया है. पुलिस के मुताबिक कसमू 10 साल से इस धंधे में है. कसमुद्दीन कट्टे बनाने में इतना माहिर है कि उसकी फैक्ट्री के बने कट्टे 'कसमू के कट्टे' नाम से जाने जाते हैं.  पुलिस अब इन हथियारों के खरीददारों की तलाश कर रही है.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement

 
 

Advertisement