NDTV Khabar

अदालत ने कुमार विश्वास से पूछा : क्या आप जेटली से जिरह करना चाहते हैं

निचली अदालत ने आपराधिक मानहानि के मामले में आप के बागी नेता कुमार विश्वास को छोड़कर मुख्यमंत्री और अन्य को बरी कर दिया था.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
अदालत ने कुमार विश्वास से पूछा : क्या आप जेटली से जिरह करना चाहते हैं

कुमार विश्वास (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

दिल्ली उच्च न्यायालय ने गुरुवार को आप के असंतुष्ट नेता कुमार विश्वास से जानना चाहा कि क्या वह डीडीसीए विवाद में उनके खिलाफ केंद्रीय वित्त मंत्री द्वारा दायर मानहानि के मुकदमे में अरूण जेटली से जिरह करना चाहते हैं. इस मामले में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और चार अन्य पहले ही माफी मांग चुके हैं. न्यायमूर्ति राजीव सहाय एंडलॉ ने विश्वास के वकील से कहा कि वह तीन मई को सुनवाई की अगली तारीख पर आप नेता को पेश करें. उच्च न्यायालय ने तीन अप्रैल को केजरीवाल और आप के चार अन्य नेताओं के खिलाफ मानहानि के दो मुकदमों को बंद कर दिया था जब समझौते की एक संयुक्त अर्जी अदालत के समक्ष पेश की गई थी.

निचली अदालत ने आपराधिक मानहानि के मामले में आप के बागी नेता कुमार विश्वास को छोड़कर मुख्यमंत्री और अन्य को बरी कर दिया था. गुरुवार की सुनवाई के दौरान जेटली की ओर से उपस्थित अधिवक्ता माणिक डोगरा ने कहा कि विश्वास का मामला अकेला नहीं टिक सकता क्योंकि आप के शेष नेता पहले ही माफी मांग चुके हैं. उन्होंने कहा कि विश्वास केजरीवाल द्वारा अपने बचाव में दी गई दलील का सहारा नहीं ले सकते क्योंकि मुख्यमंत्री पहले ही माफी मांग चुके हैं और उनके और चार अन्य के खिलाफ अब मुकदमा नहीं रहा.


यह भी पढ़ें : आसाराम को उम्रकैद की सजा पर बोले कुमार विश्वास, 'पुरखों ने सच कही है बापू...'

न्यायमूर्ति एंडलॉ ने कहा कि वादी के वकील का कहना है कि केजरीवाल ने सभी आरोप वापस ले लिये हैं और चूंकि विश्वास ने केजरीवाल के लिखित वक्तव्य पर भरोसा किया है, इसलिये कुमार विश्वास के संबंध में आरोप का अस्तित्व नहीं है. विश्वास को तीन मई को व्यक्तिगत रूप से उपस्थित होने दें. अदालत ने जेटली के वकील की दलील पर भी गौर किया कि अगर विश्वास उनसे जिरह करना चाहते हैं तो ऐसा वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये किया जा सकता है. उच्च न्यायालय ने तीन अप्रैल को जेटली, केजरीवाल और आप के चार नेताओं राघव चड्ढा, संजय सिंह, आशुतोष और दीपक बाजपेयी के 10 करोड़ रुपये की मानहानि के मुकदमे में संयुक्त समझौते की अर्जी मंजूर कर ली थी.

टिप्पणियां

VIDEO : आम आदमी पार्टी ने कुमार विश्वास को राजस्थान प्रभारी पद से हटाया​
यह वाद जेटली ने केजरीवाल और आप के पांच अन्य नेताओं के खिलाफ दायर किया था. अदालत ने हालांकि कहा था कि विश्वास के खिलाफ मानहानि का मुकदमा जारी रहेगा क्योंकि उन्होंने मामले में समझौता करने की पेशकश नहीं की. जेटली ने दिसंबर 2015 में केजरीवाल और आप के पांच अन्य नेताओं के खिलाफ मानहानि का मुकदमा दायर किया था. इन नेताओं ने जेटली के दिल्ली एवं जिला क्रिकेट एसोसिएशन (डीडीसीए) का अध्यक्ष रहने के दौरान उसमें वित्तीय अनियमितता के आरोप लगाए थे. भाजपा नेता ने सभी आरोपों का खंडन किया था. 

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement