Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
NDTV Khabar

उच्च न्यायालय ने CBI को JNU के लापता छात्र नजीब अहमद का पता लगाने को कहा

उच्च न्यायालय ने ये निर्देश जांच ब्यूरो की ओर से दायर स्थिति रिपोर्ट को देखने के बाद दिए.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
उच्च न्यायालय ने CBI को JNU के लापता छात्र नजीब अहमद का पता लगाने को कहा

नजीब अहमद (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. निर्देश जांच ब्यूरो की ओर से दायर स्थिति रिपोर्ट को देखने के बाद दिए.
  2. एजेंसी ने अपनी रिपोर्ट में उन कदमों की जानकारी दी.
  3. सीबीआई ने जांच पूरी करने के लिए समय मांगा
नई दिल्ली:

जेएनयू के गुमशुदा छात्र नजीब अहमद का अब तक कोई सुराग नहीं लगा है.  दिल्ली उच्च न्यायालय ने बुधवार को केन्द्रीय जांच ब्यूरो को बीते अक्तूबर से लापता जेएनयू छात्र नजीब अहमद का पता लगाने के लिए सभी जरूरी कदम उठाने के निर्देश दिए. उच्च न्यायालय ने ये निर्देश जांच ब्यूरो की ओर से दायर स्थिति रिपोर्ट को देखने के बाद दिए. एजेंसी ने अपनी रिपोर्ट में उन कदमों की जानकारी दी, जो उसने लापता छात्र का पता लगाने के लिए उठाए हैं. इसके साथ ही सीबीआई ने जांच पूरी करने के लिए समय मांगा.

न्यायमूर्ति जी एस सिस्तानी और न्यायमूर्ति चंद्रशेखर की पीठ ने कहा, ‘हम सीबीआई को निर्देश देते हैं कि वह 15 अक्तूबर 2016 से लापता व्यक्ति का पता लगाने के लिए हर जरूरी कदम उठाए.’ अदालत ने जांच ब्यूरो से स्थिति रिपोर्ट को सीलबंद लिफाफे में दाखिल करने की वजह पूछी.


यह भी पढे़ं : दिल्ली हाई कोर्ट ने नजीब का पता लगाने के लिए संबंधित लोगों का पॉलीग्राफ परीक्षण कराने को कहा

इस पर जांच ब्यूरो के वकील ने कहा कि वे गवाहों का नाम उजागर नहीं करना चाहते.

टिप्पणियां

एजेंसी के वकील ने पीठ को बताया कि उन्होंने जांच के दौरान 26 लोगों से पूछताछ की थी, जिनमें जेएनयू के अधिकारी, कर्मचारी, नजीब के दोस्त, सहकर्मी और उसके साथ मतभेद रख चुके लोग शामिल थे. अदालत नजीब की मां फातिमा नफीस की याचिका की सुनवाई कर रही थी. फातिमा ने पिछले साल 25 नवंबर को अपने बेटे का पता लगाने के लिए अदालत का रूख किया था. नजीब जेएनयू में एमएससी बायोटेक्नोलॉजी के पहले वर्ष का छात्र था. वह विश्वविद्यालय के माही मांडवी हॉस्टल से लापता हो गया था.

VIDEOS : नजीब अहमद का कोई सुराग नहीं​
नजीब की मां का पक्ष रख रहे वकील ने सीबीआई को उसकी जांच में शामिल करने के लिए कुछ सुझाव भी दिए.(इनपुट भाषा से)



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


 Share
(यह भी पढ़ें)... क्या ऐसे ट्रंप की नजरों से छुप जाएगी गरीबी?

Advertisement