NDTV Khabar

घर ख़रीदारों की वित्त मंत्री अरुण जेटली से मांग, 'ईएमआई रुकवा दें क्योंकि...'

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने बुधवार को कहा था कि "हम चाहते हैं कि जिन घर ख़रीदारों ने बिल्डरों को पैसा दिया है उनका घर मिलना चाहिए, हम बात कर रहे हैं, इंसॉलवेंसी में जाने का मतलब ये नहीं होता कि कंपनी का चल रहा काम रुक जाएगा."

99 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
घर ख़रीदारों की वित्त मंत्री अरुण जेटली से मांग, 'ईएमआई रुकवा दें क्योंकि...'

प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर

नई दिल्‍ली: नोएडा के फ्लैट ख़रीदारों के संघ ने अरुण जेटली को पत्र लिखकर निवेदन किया है कि जेटली बैंकों से बात कर घर मिलने तक बैंकों को जाने वाली ईएमआई रुकवा दें क्योंकि ईएमआई और किराये दोनों का बोझ झेल पाना बहुत मुश्किल हो रहा है. नोएडा और ग्रेटर नोएडा में विभिन्न प्रोजेकट्स में लगभग 2.5 लाख लोगों के घर फ़ंसे हुए हैं. वित्त मंत्री अरुण जेटली ने बुधवार को कहा था कि "हम चाहते हैं कि जिन घर ख़रीदारों ने बिल्डरों को पैसा दिया है उनका घर मिलना चाहिए, हम बात कर रहे हैं, इंसॉलवेंसी में जाने का मतलब ये नहीं होता कि कंपनी का चल रहा काम रुक जाएगा." बुधवार को वित्त मंत्री अरुण जेटली के बयान के बाद लगातार बिल्डरों के ख़िलाफ़ धरना प्रदर्शन कर रहे लाखों घर खरीदारों को थोड़ी उम्मीद जगी है.

गुरुवार को नोएडा के फ्लैट बायर समूह ने अरुण जेटली को पत्र लिखकर मांग की है कि वो बैंकों से बात कर बैंकों को जाने वाली ईएमआई घर मिल जाने तक रुकवा दें क्योंकि अब वो किराये और ईएमआई का दोहरा बोझ नहीं झेल सकते. पत्र लिखने वाले नोएडा फ्लैट बायर्स एसोसिएशन के अभिषेक कुमार ने बताया कि "लाखों ख़रीदार किराया भी दे रहे हैं, ईएमआई भी. बिल्डर ने वादे के बावजूद घर तय समय सीमा के अंदर नहीं दिया, हमारा तो बजट ही बिगड़ गया. ऊपर से हर साल 10% किराया भी बढ़ जाता है."

आम्रपाली की संपत्तियों की नीलामी और जेपी इंफ्राटेक की इंसॉल्वेंसी की प्रक्रिया शुरू होने के बाद से हज़ारों ख़रीदार परेशान हैं. कुछ घर ख़रीदार कई दिनों से नोएडा में आम्रपाली के कॉर्पोरेट ऑफ़िस के सामने धरने पर बैठे हुए हैं.

VIDEO: नोएडा के फ्लैट खरीदारों ने अरुण जेटली को लिखी चिट्ठी


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement