NDTV Khabar

अमेरिका और आस्ट्रेलिया के साथ चौकड़ी बनाने की जापानी कोशिश पर भारत ने लचीला रुख दिखाया

जापान ने अमेरिका, भारत और आस्ट्रेलिया के साथ शीर्ष स्तरीय संवाद का प्रस्ताव पेश करने का गुरुवार को इरादा जताया था.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
अमेरिका और आस्ट्रेलिया के साथ चौकड़ी बनाने की जापानी कोशिश पर भारत ने लचीला रुख दिखाया

(प्रतीकात्मक तस्वीर)

नई दिल्ली: भारत ने शुक्रवार को कहा कि वह उन मुद्दों पर मिलते-जुलते विचारों वाले विभिन्न देशों के साथ काम करने के लिए खुला है जो उसके हितों और विचारों को बढ़ावा देते हैं. जापान ने अमेरिका, भारत और आस्ट्रेलिया के साथ शीर्ष स्तरीय संवादका प्रस्ताव पेश करने का गुरुवार को इरादा जताया था. भारत ने यह बात उसके एक दिन बाद कही है. विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार से जब जापानी विदेश मंत्री तारो कोनो की टिप्पणी के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, ‘इस संबंध में हमारा रुख लचीला है.’ जापानी विदेश मंत्री ने निक्की बिजनेस डेली से कहा था कि जापान अमेरिका, भारत और ऑस्ट्रेलिया के साथ एक वार्ता का प्रस्ताव करेगा.

कुमार ने विभिन्न त्रिपक्षीय पहलों का जिक्र किया जिसमें भारत भागीदारी कर रहा है. उन्होंने कहा, ‘एक देश के रूप में हमारी व्यापक स्वीकार्यता के कारण ऐसी अनेक पहल है जो प्रकृति में त्रिपक्षीय हैं. मिसाल के तौर पर हमने पिछले साल एशिया प्रशांत के विषय पर रूस और चीन के साथ त्रिपक्षीय बैठक की. हमने सुरक्षा मामलों पर भारत-श्रीलंका-मालदीव त्रिपक्षीय वार्ता की.’

यह भी पढ़ें : जापान में साल के 21वां तूफान, 'लैन' की वजह से बड़ी संख्या में उड़ान सेवाएं रद्द

प्रवक्ता ने भारत-अमेरिका-जापान त्रिपक्षीय वार्ता की भी चर्चा की जो अनेक साल से हो रहा है और साथ ही हाल के भारत-जापान-आस्ट्रेलिया त्रिपक्षीय वार्ता की भी चर्चा की. उन्होंने कहा कि देश भारत-अफगानिस्तान-ईरान त्रिपक्षीय का भी हिस्सा है और भारत-अमेरिका-अफगानिस्तान बैठक की बाट जोह रहा है.

VIDEO : बुलेट ट्रेन का सपना कितना पास, कितना दूर?​


विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि ये सारी बैठकें विभिन्न स्तर पर संचालित की जा रही हैं. कुमार ने कहा, ‘जहां तक हमारा सरोकार है, मिलते-जुलते हितों वाले देशों के साथ सहयोग पर हमारा दिमाग खुला है. अवश्य ही एजेंडा हमारे लिए प्रासंगिक होना चाहिए. उल्लेखनीय है कि अमेरिकी विदेश मंत्री रेक्स टिलरसन के साथ मुलाकात के बाद विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने बुधवार को कहा था कि दोनों पक्ष संप्रभुता एवं क्षेत्रीय अखंडता के उसूलों पर आधारित सहयोग को बढ़ावा देने के लिए साथ-साथ और दूसरे साझेदारों के साथ मिल कर काम करने पर सहमत हुए हैं.

 

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement