NDTV Khabar

जामिया में नार्थ जोन इंटर-यूनिवर्सिटी पुरुष बास्केटबॉल और एरो-मॉडलिंग चैंपियनशिप की शुरुआत

जामिया के रजिस्ट्रार ए.पी सिद्दीकी ने मंसूर अली खान पटौदी स्पोर्ट्स काम्प्लेक्स में इस चैंपियनशिप का उद्घाटन किया.

38 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
जामिया में नार्थ जोन इंटर-यूनिवर्सिटी पुरुष बास्केटबॉल और एरो-मॉडलिंग चैंपियनशिप की शुरुआत

प्रतियोगिता में हिस्सा लेने आए छात्रों की टीमें

नई दिल्ली: जामिया मिलिया इस्लामिया  में आज से पुरुषों की नार्थ जोन इंटर-यूनिवर्सिटी प्रतियोगिता की शुरुआत हुई. जामिया के रजिस्ट्रार ए.पी सिद्दीकी ने मंसूर अली खान पटौदी स्पोर्ट्स काम्प्लेक्स में इस चैंपियनशिप का उद्घाटन किया. पहला मैच जीएनडीयू अमृतसर और पीएयू लुधियाना के बीच खेला गया. जामिया की मेजबानी में शुरू हुई ये प्रतियोगिता एक हफ्ते तक चलेगी. इस प्रतियोगिता में 55 यूनिवर्सिटी हिस्सा ले रही हैं. प्रतियोगिता का फाइनल 8 दिसम्बर को होगा. जामिया के कुलपति प्रोफेसर तलत अहमद विजयी टीमों को पुरस्कार देंगे. 

जामिया मिलिया इस्लामिया और ताइवान यूनिवर्सिटी के बीच अकादमिक सहयोग समझौता

दूसरी तरफ आज जामिया मिल्लिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी के आकाश में नन्हे हवाई जहाज उड़ते हुए दिखाई दिए. जामिया स्कूल ग्राउंड में आज एक दिन की स्कूल स्तर की एरो-मॉडलिंग प्रतियोगिता का भी आयोजन हुआ. एनसीसी जामिया, एरो मॉडलिंग क्लब जामिया और इंडियाज़ हॉबी शैक ने मिलकर ये आयोजन किया.  इस प्रतियोगिता में दिल्ली के 60 से ज्यादा स्कूलों ने भाग लिया. जामिया में यह प्रतियोगिता पहली बार आयोजित हुईय पिछली बार इस प्रतियोगिता का आयोजन आईआईटी दिल्ली में हुआ था. जामिया के रजिस्ट्रार एपी सिद्दीकी ने ही इस प्रतियोगिता का उद्घाटन किया. ड्रोन के ज़रिए फूल बरस कर मुख्य अतिथि और दूसरे मेहमानों का स्वागत किया गया.

वीडियो : जामिया में यूनियन बनाने को लेकर हो चुकी है हड़ताल

भाग लेने वाली स्कूलों की टीमों ने अपने-अपने मॉडल्स उड़ा कर दिखाए. 'इंडियाज़ हॉबी शैक' भारत में एरो मॉडलिंग को एक शौक और खेल की तरह प्रोत्साहित कर रही है. प्रतियोगियों की उम्र के हिसाब से उन्हें एरो मॉडल बनाने का टास्क भी दिया गया. प्रतियोगिता के ज़रिए होनहार एरो मॉडलर्स की पहचान कर उन्हें भविष्य में एरो मॉडलिंग की एडवांस स्टेज के लिए प्रशिक्षित किया जाएगा. छात्रों को इस प्रतियोगिता के जरिए एविएशन के क्षेत्र में करियर की संभावनाओं के बारे में भी सीखने को मिलेगा. जो छात्र कमर्शियल पायलट, फाइटर पायलट या एयरोनॉटिकल इंजीनियर बनना चाहते हैं उनके लिए यह प्रतियोगिता काफी उपयोगी साबित होगी.जामिया ने हाल ही में अपना एरोमॉडलिंग क्लब बनाया है. एरोनॉटिक्स की पढ़ाई के लिए जामिया ने हाल ही में पवन हंस के साथ एमओयू पर भी हस्ताक्षर किया है.
 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement