Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
NDTV Khabar

जामिया की छात्राओं का आरोप- पुलिस ने प्राइवेट पार्ट्स पर मारी लात, कपड़े फाड़े और गालियां दीं

जामिया समन्वय समिति (जेसीसी) के परचम तले करीब 20 छात्र बुधवार को मीडिया के सामने आए और उस दिन पुलिस द्वारा कथित तौर पर बरती गई बर्बरता को बयां किया.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
जामिया की छात्राओं का आरोप- पुलिस ने प्राइवेट पार्ट्स पर मारी लात, कपड़े फाड़े और गालियां दीं

जामिया में विरोध प्रदर्शन कर रही छात्राओं ने दिल्ली पुलिस पर आरोप लगाए हैं.

खास बातें

  1. जामिया की छात्राओं ने दिल्ली पुुलिस पर आरोप लगाए हैं
  2. सीएए के खिलाफ छात्र प्रदर्शन कर रहे हैं
  3. संसद तक मार्च निकालना चाहते थे छात्र
नई दिल्ली:

जामिया मिल्लिया इस्लामिया (Jamia Millia Islamia) के छात्रों के एक समूह ने बुधवार को आरोप लगाया कि सोमवार को जब वे संशोधित नागरिकता कानून (CAA) के खिलाफ संसद तक मार्च करने की कोशिश कर रहे थे तब पुलिस ने छात्राओं के गुप्तांगों पर लात मारी, कपड़े और हिजाब फाड़ दिए एवं गालियां दीं. हालांकि, पुलिस ने इन आरोपों पर फौरन कोई प्रतिक्रिया देने से इनकार कर दिया. उल्लेखनीय है कि सोमवार को सीएए और प्रस्तावित राष्ट्रीय नागरिक पंजी (NRC) के खिलाफ जामिया के सैकड़ों छात्र और आसपास के लोग संसद तक मार्च करने की कोशिश कर रहे थे लेकिन पुलिस (Delhi Police) ने रास्ते में ही उन्हें रोक दिया था जिसके बाद सुरक्षाकर्मियों और प्रदर्शनकारियों में झड़प हो गई थी.

संसद मार्च पर हुई पुलिस कार्रवाई पर ओवैसी ने कहा- प्रदर्शनकारियों के खिलाफ अपमानजनक व्यवहार बीजेपी की पहचान बन गई है


जामिया समन्वय समिति (जेसीसी) के परचम तले करीब 20 छात्र बुधवार को मीडिया के सामने आए और उस दिन पुलिस द्वारा कथित तौर पर बरती गई बर्बरता को बयां किया. इन छात्रों ने आरोप लगाया कि पुलिस ने सोमवार को उन्हें होली फैमिली अस्पताल के पास रोका और जूते, डंडे, छड़ और लोहे के बने कवच से पिटाई की. उल्लेखनीय है कि सोमवार की झड़प के बाद कम से कम 23 लोगों को अल शिफा और अंसारी अस्पताल में इलाज के लिए ले जाया गया था. ये छात्र अस्पताल से छुट्टी मिलने के बाद मीडिया से बात कर रहे थे.

CAA-NRC के खिलाफ संसद तक मार्च निकाल रहे जामिया के प्रदर्शनकारियों की पुलिस से भिड़ंत

छात्राओं ने आरोप लगाया कि पुलिस ने उनके गुप्तांगों पर लात मारी, उनकी जांघ पर चढ़ गए और हिजाब फाड़ दिया. उल्लेखनीय है कि सोमवार को प्रदर्शनकारियों ने विश्वविद्यालय के द्वार संख्या सात से दोपहर में संसद के लिए मार्च शुरू किया था. सीएए के खिलाफ करीब दो महीने से प्रदर्शन चल रहा है लेकिन गत शुक्रवार और शनिवार को प्रदर्शनकारियों ने चुनाव के चलते प्रदर्शन स्थल को बदल दिया गया था.

प्रदर्शनकारी जब दो किलोमीटर का रास्ता तय कर चुके थे तब पुलिस ने उन्हें रोका और अनुमति नहीं होने और निषेधाज्ञा लागू होने का हवाला देते हुए उनसे आगे नहीं बढ़ने की अपील की.

टिप्पणियां

देखें Video: CAA-NRC के खिलाफ संसद तक मार्च निकाल रहे जामिया के छात्रों को पुलिस ने रोका



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


 Share
(यह भी पढ़ें)... केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह का विवादित बयान, कहा- 1947 में ही सभी मुसलमानों को पाकिस्तान भेज देना चाहिए था

Advertisement