NDTV Khabar

'दिल्ली में हालात खतरनाक' NRC की जरूरत : मनोज तिवारी

इससे पहले बीजेपी अध्यक्ष और गृहमंत्री अमित शाह लोकसभा चुनाव के दौरान कई बार यह बात कह चुके हैं कि वह पूरे देश से घुसपैठियों को बाहर निकालने के लिए प्रतिबद्ध हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
'दिल्ली में हालात खतरनाक' NRC की जरूरत : मनोज तिवारी

दिल्ली बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष और सांसद मनोज तिवारी

खास बातें

  1. असम में एनआरसी लिस्ट जारी
  2. मनोज तिवारी ने दिल्ली में भी की मांग
  3. कांग्रेस महिला शाखा ने साधा निशाना
नई दिल्ली:

जिस तरह से असम में एनआरसी लिस्ट जारी हुई उसी तर्ज पर दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी ने दिल्ली में भी ऐसी लिस्ट बनाने की मांग की है ताकि यहां पर आए अप्रवासियों की पहचान की जा सके. उनका दावा है कि दिल्ली में हालात खतरनाक स्तर पर पहुंच गए हैं. गौरतलब है कि इससे पहले भी कई बीजेपी  नेता पूरे देश में एनआरसी लिस्ट बनाने की मांग कर चुके हैं.  वहीं मनोज तिवारी ने कहा, 'एनआरसी की जरूरत है क्योंकि दिल्ली में हालात खतरनाक बन रहे हैं. अवैध रूप से बसे अप्रवासी बड़ा खतरा बन गए हैं. हम यहां भी एनआरसी लागू करेंगे'. दिल्ली बीजेपी अध्यक्ष मनोज तिवारी ने यह बात न्यूज एजेंसी एएनआई से कहा है. दिल्ली विधानसभा चुनाव से पहले उनका यह ऐलान काफी अहम माना जा रहा है.


वहीं मनोज तिवारी के इस बयान पर कांग्रेस की महिला विंग ने ट्वीट कर उन पर निशाना साधा है. ट्वीट में लिखा है, मनोज तिवारी जी! जन्म हुआ कैमूर में, पढ़े वाराणसी में, काम किया यूपी और मुंबई में, चुनाव लड़े गोरखपुर और दिल्ली में और बात कर रहे हैं दिल्ली से अप्रवासियों को बाहर करने की'. 

असम में NRC लिस्ट हुई जारी, 19.06 लाख लोग हुए बाहर, पढ़ें 10 बड़ी बातें

इससे पहले बीजेपी अध्यक्ष और गृहमंत्री अमित शाह लोकसभा चुनाव के दौरान कई बार यह बात कह चुके हैं कि वह पूरे देश से घुसपैठियों को बाहर निकालने के लिए प्रतिबद्ध हैं. हालांकि असम में बीजेपी के वरिष्ठ नेता हेमंत बिश्व शर्मा ने कहा है कि उनको नहीं लगता है कि एनआरसी अवैध निवासियों को बाहर निकालने में बहुत मददगार साबित होगी. 

असम में 19 लाख 6,657 लोग विदेशी नागरिक! जानें NRC लिस्ट में कैसे चेक करें नाम

उन्होंने कहा कि जब इस लिस्ट में बहुत से भारतीय बाहर हो गए हैं तो कैसे कहा जा सकता है एनआरसी असम के लिए कोई खुशी लेकर आया है. वहीं बीजेपी ने भी आशंका जताई है कि बहुत से हिंदुओं को इस लिस्ट से बाहर कर दिया गया है जबकि कई बांग्लादेशी फर्जी दस्तावेज देने में कामयाब हो गए हैं. वहीं हेमंत बिश्व शर्मा ने संकेत दिया है कि केंद्र और राज्य सरकार किसी नए प्लान पर काम कर रही है.


 

असम में NRC लिस्ट हुई जारी, 3.11 करोड़ लोगों के नाम शामिल

टिप्पणियां

इनपुट : ANI से भी



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement