NDTV Khabar

MCD Election 2017 : केजरीवाल ने शुरू किया प्रचार; अमित शाह को चुनौती, पीएम मोदी का नाम तक नहीं लिया

1502 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
MCD Election 2017 : केजरीवाल ने शुरू किया प्रचार; अमित शाह को चुनौती, पीएम मोदी का नाम तक नहीं लिया

अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली नगर निगम चुनाव में एक जनसभा से प्रचार की शुरुआत की

खास बातें

  1. 'आप' की जनसभा में बीजेपी और कांग्रेस को जमकर निशाना बनाया
  2. बीजेपी की खामियां और दिल्ली सरकार की उपलब्धियां गिनाईं
  3. अरविंद केजरीवाल की एमसीडी चुनाव के लिए पहली जनसभा
नई दिल्ली: दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली नगर निगम (एमसीडी) चुनाव के लिए शुक्रवार को आम आदमी पार्टी के प्रचार अभियान की शुरुआत की. उन्होंने अपनी पहली चुनावी जनसभा में बीजेपी और कांग्रेस को जमकर निशाना बनाया. उन्होंने जहां एमसीडी में सत्तासीन बीजेपी की खामियां गिनाईं वहीं दिल्ली सरकार की उपलब्धियां भी गिनाईं. केजरीवाल मीडिया को भी निशाना बनाने से नहीं चूके.  

अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली के बुराड़ी में एक जनसभा को संबोधित कर अपने प्रचार अभियान की शुरुआत की. यह इलाका आम आदमी पार्टी का सबसे मजबूत वोट बैंक माना जाता है. जनसभा में आई भीड़ ने इस बात की तस्दीक की. हालांकि केजरीवाल के लिए आज आई भीड़ अहम है क्योंकि पंजाब चुनाव में हार और उसके बाद पार्टी के बवाना विधायक के बीजेपी में शामिल हो जाने से आम आदमी पार्टी बैकफुट पर थी. ऐसे में इस जनसभा में आई भीड़ से वह कुछ राहत की सांस ले रही होगी.

अहम बात यह रही कि केजरीवाल ने बीजेपी, कांग्रेस, अमित शाह, शीला दीक्षित सबके नाम लिए लेकिन कहीं भी उन्होंने पीएम मोदी का नाम नहीं लिया. असल में इससे यह संकेत मिलता है कि केजरीवाल फिलहाल पीएम मोदी के दम बीजेपी को मिली जबरदस्त जीत से समझे हैं कि मोदी से इस समय भिड़ने में नुकसान ही होगा फायदा नहीं. इसलिए पहले जहां पीएम मोदी की आलोचना करते थे, कोसते थे, 11 मार्च के बाद से ऐसा बंद सा हो गया है. शायद केजरीवाल उसी रणनीति पर चल रहे हैं जिस पर दिल्ली विधानसभा चुनाव 2015 में चले थे. यानी केवल अपने काम का बखान और पीएम मोदी पर हमले से परहेज़.

केजरीवाल ने बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह को निशाना बनाते हुए कहा कि ''मैं आपको (अमित शाह) चैलेंज करता हूं. मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, महाराष्ट्र आदि में आपकी सरकार है. दो साल में हमारी सरकार के काम से तुलना कर लो, डिबेट कर लो. दूसरे राज्य छोड़ो, यहीं देख लो 10 साल में बीजेपी ने एमसीडी में एक काम बता दो, जो किया हो. बिजली के रेट आधे करने पर मेरा मजाक उड़ाते थे लेकिन देखो मैंने किए. लेकिन यह मीडिया वाले अच्छा काम नहीं दिखाते. बस हमारे खिलाफ ही दिखाते हैं. पूरे देश में सबसे सस्ती बिजली दिल्ली में है. दो साल में एक रुपया बिजली का नहीं बढ़ने दिया. अमित शाह को चैलेंज है गुजरात में, मुंबई में बिजली सस्ती करके दिखा दें.''

उन्होंने दिल्ली सरकार की उपलब्धियां गिनाते हुए कहा कि ''पानी फ्री करने के लिए कहा तो मेरा मजाक उड़ा, लेकिन मैंने करके दिखाया. कहते थे केजरीवाल दिल्ली जल बोर्ड का भट्टा बैठा देगा. लेकिन दिल्ली जल बोर्ड ने 178 करोड़ का मुनाफा कमाया. इस साल के अंत तक दिल्ली के हर घर में पाइपलाइन से पानी आ जाएगा. दो साल में 309 कॉलोनियों में पीने का पानी पहुंचाया. पानी के पुराने बिल माफ किए. दो साल में दिल्ली के सरकारी स्कूलों का कायापलट कर दिया. नए सरकारी स्कूलों में स्विमिंग पूल बन रहे हैं लिफ्ट लग रही हैं.'' उन्होंने कहा कि ''दो साल से दिल्ली का सीएम हूं. एक बार भी विदेश नहीं गया. बस मदर टेरेसा के लिए गया. मैं दूसरे नेताओं की तरह नहीं हूं. मैं खुद नहीं टीचर्स को भेजता हूं जिससे वे आपके बच्चों को और बढ़िया पढ़ाएं.''

केजरीवाल ने कहा कि ''150 मोहल्ला क्लिनिक एयर कंडिशंड हैं 'एक दम फन्ने खां'. पूरे देश में सबसे ज्यादा न्यूनतम मजदूरी कर दी है. बीजेपी कांग्रेस वालों ने बहुत विरोध किया. सब बुजुर्ग और महिलाओं की पेंशन 2500 रुपये महीना कर दी है. हमने दिल्ली सरकार में करप्शन बंद कर दिया, इसलिए हमारे पास पैसा ही पैसा है.'' उन्होंने बीजेपी की निंदा करते हुए कहा कि ''रानी झांसी रोड बीजेपी की एमसीडी 2006 से बना रही है, आज तक नहीं बनी. दिल्ली देश की राजधानी है, चारों तरफ कूड़ा ही कूड़ा, मच्छर ही मच्छर. पिछले साल मैंने 7500 रुपये एमसीडी को दिए, बीजेपी वालों के हाथ पैर जोड़े लेकिन ये नहीं माने सफाई नहीं कराई. एक साल दे दो मैं दिल्ली को साफ कर दूंगा.''

अपना भाषण खत्म करते-करते केजरीवाल ने लोगों को एक तरह डराया कि अगर एमसीडी में आम आदमी पार्टी हार गई तो बिजली पानी महंगे हो जाएंगे. उन्होंने एक बीजेपी नेता द्वारा बताई गई एक बात का हवाला दिया और कहा कि मुझे बताया गया कि अगर एमसीडी में बीजेपी या कांग्रेस की सरकार आ गई तो बिजली पानी के विभाग जो अभी दिल्ली सरकार के पास हैं वे नगर निगम को ट्रांसफर हो जाएंगे, जैसे पहले होते थे, जब दिल्ली में विधान सभा नहीं थी. उन्होंने कहा कि पूरे देश में बीजेपी कांग्रेस वालों को बिजली पानी महंगे करने में दिक्कत हो रही है इसलिए ऐसा किया जा सकता है. इसके बाद उन्होंने जनता से कहा कि आप इस षड्यंत्र को कामयाब न होने देना और नगर निगम में आम आदमी पार्टी को ही वोट देकर आप की ही सरकार बनवाना. केजरीवाल जानते हैं कि दिल्ली में बिजली पानी के दाम इतना बड़ा मुद्दा हैं कि इसके दम पर उन्होंने दिल्ली से शीला दीक्षित की सरकार की विदाई करवा दी थी और सरकार में आते ही सबसे पहले बिजली पानी सस्ते किए.

बताया जाता है कि अरविंद केजरीवाल 23 अप्रैल को होने वाले दिल्ली नगर निगम चुनाव के लिए दो से तीन दर्जन सभाएं करेंगे.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement