NDTV Khabar

दिल्ली में डॉक्टर की घोर लापरवाही : कराने आये थे सिर पर लगी चोट का इलाज, कर डाला टांग का ऑपरेशन

अस्पताल पैनल ने डॉक्टर की गलती पाई जिसके चलते निगरानी के बिना चिकित्सक के ऑपरेशन करने पर रोक लगा दी गई है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
दिल्ली में डॉक्टर की घोर लापरवाही : कराने आये थे सिर पर लगी चोट का इलाज, कर डाला टांग का ऑपरेशन

विजेन्द्र के सिर का ऑपरेशन करने के बजाए पैर का ऑपरेशन कर डाला डॉक्टरों ने

खास बातें

  1. सिविल लाइंस में है सुश्रुत ट्रॉमा सेंटर
  2. डॉक्टर पर बिना निगरानी ऑपरेशन पर लगी रोक
  3. जांच के लिए समिति बनाई गई
नई दिल्ली:

दिल्ली में सरकार संचालित एक अस्पताल में घोर चिकित्सा लापरवाही का मामला सामने आया है जब एक वरिष्ठ चिकित्सक ने सिर की चोट के इलाज के लिए भर्ती एक मरीज की टांग का ऑपरेशन कर दिया. यह घटना गुरुवार को  सिविल लाइन्स इलाके के सुश्रुत ट्रॉमा सेंटर में हुई. अस्पताल में एक रोगी सिर में लगी चोट के इलाज के लिए भर्ती था और एक अन्य मरीज पैर की हड्डी टूट जाने की वजह से भर्ती था. डॉक्टर ने सिर की चोट वाले मरीज को टांग की हड्डी वाला मरीज समझ लिया.  डॉक्टर ने मरीज की दाहिनी टांग के भीतर पिन डालने के लिए उसमें छेद कर दिया. यह मरीज एक दुर्घटना में सिर और चेहरे पर आई चोट के उपचार के लिए अस्पताल में भर्ती था.  अस्पताल के चिकित्सा अधीक्षक अजय बहल ने कहा, ‘‘चूंकि वरिष्ठ रेजीडेंट डॉक्टर ने मरीज को बेहोश करने के बाद ऑपरेशन की प्रक्रिया को अंजाम दिया, इसलिए मरीज को इस बारे में पता नहीं लगा.’’ 

पटना: PMCH ने एंबुलेंस और स्ट्रेचर देने से किया मना, गोद में बच्चा ले जाने को मजबूर हुए परिजन


vijendra leg operated instead of leg ani twitter
(विजेंन्द्र को एक एक्सीडेंट में सिर पर चोट लगी थी)

झांसी मेडिकल कॉलेज में लापरवाही की हद पार, डॉक्टरों ने मरीज के कटे पैर को बना दिया तकिया

लापरवाही का पता चलने के बाद सुधारात्मक प्रक्रिया अपनाई गई. अस्पताल पैनल ने डॉक्टर की गलती पाई जिसके चलते निगरानी के बिना चिकित्सक के ऑपरेशन करने पर रोक लगा दी गई है. बहल ने कहा, ‘‘मामले की जांच के लिए एक समिति बनाई गई जिसने डॉक्टर की गलती पाई. तत्काल प्रभाव से बिना निगरानी के उसके ऑपरेशन करने पर रोक लगा दी गई है. ’’ 

टिप्पणियां

वीडियो : झांसी में भी लापरवाही

हाल में एक अन्य मामले में अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) के एक वरिष्ठ डॉक्टर ने पेट दर्द की शिकायत लेकर पहुंची 30 वर्षीय एक महिला पर कथित तौर पर डायलिसिस के लिए अपनाई जाने वाली चिकित्सा प्रक्रिया शुरू कर दी थी. इतना ही नहीं डॉक्टर ने अपनी गलती छिपाने के लिए मामले से संबंधित दस्तावेजों में भी छेड़छाड़ की. 
 

(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement