जेएनयू के गायब छात्र नजीब के रूम मेट का 'लाई डिटेक्टर टेस्ट' हुआ

जेएनयू के गायब छात्र नजीब के रूम मेट का 'लाई डिटेक्टर टेस्ट' हुआ

जेएनयू का लापता छात्र नजीब अहमद (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

जेएनयू के लापता छात्र नजीब अहमद की खोज के लिए अब उसके जानकारों और संदिग्धों के 'लाई डिटेक्टर टेस्ट' कराए जा रहे हैं. पहला टेस्ट नजीब के रूम मेट काज़िम का हुआ.

रोहिणी की फॉरेंसिक लैब में नजीब अहमद के रूम मेट काज़िम का लाई डिटेक्टर टेस्ट घंटों चला. सवालों की एक फेहरिस्त तैयार की गई थी. टेस्ट के दौरान उससे सभी सवाल पूछे गए.

उत्तर-पूर्व भारत के रहने वाले काज़िम के लैपटॉप पर नजीब ने उसके गांव की तस्वीरें देखी थीं और वह इंटरनेट पर उस जगह के बारे में जानकारी भी खोज रहा था. इसलिए पुलिस काज़िम के गांव भी नजीब को खोजने गई थी. लैब में काज़िम से नजीब के गायब होने के पहले उसकी मनोदशा के बारे में भी पूछा गया.

Newsbeep

पुलिस ने नजीब मामले में यह कदम हाईकोर्ट के उस आदेश के बाद उठाया जिसमें कहा गया कि पूरे जेएनयू परिसर की तलाशी ली जाए, नजीब के सभी करीबियों का लाई डिटेक्टर टेस्ट हो, उनके भी लाई डिटेक्टर टेस्ट हों जिनसे नजीब का गायब होने से पहले झगड़ा हुआ था. पुलिस को अभी आठ और लोगों के लाई डिटेक्टर टेस्ट करवाने हैं.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


करीब 600 पुलिसकर्मी खोजी कुत्तों के साथ पूरे जेएनयू परिसर की तलाशी ले चुके हैं और काज़िम की हामी के बाद उसका लाई डिटेक्टर टेस्ट भी हो गया.अब लाई डिटेक्टर टेस्ट के लिए बाकी लोगों की सहमति का इंतजार है. पुलिस को यह भी जानकारी मिली है कि नजीब के गायब होने के एक हफ्ते बाद फेसबुक पर उसका एकाउंट ऐक्टिव रहा. उसके लॉगिन लोकेशन की जानकारी फेसबुक से मांगी गई है. पुलिस नजीब की सूचना देने वाले को 10 लाख रुपये का इनाम भी देगी.