NDTV Khabar

निर्भया कांड के 5 साल : नहीं बदली दिल्ली, 2016-2017 में रेप के 2,155 मामले हुए दर्ज

16 दिसंबर की रात पांच दरिंदों ने 23 वर्षीया निर्भया के साथ क्रूरतम तरीके से सामूहिक दुष्कर्म किया था.

76 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
निर्भया कांड के 5 साल : नहीं बदली दिल्ली,  2016-2017 में रेप के 2,155 मामले हुए दर्ज

प्रतीकात्मक फोटो

खास बातें

  1. निर्भया कांड की गूंज पूरे देश में सुनी गई थी
  2. दिल्ली सहित पूरे देश में हुआ था प्रदर्शन
  3. फिर भी दिल्ली में नहीं बदले हालात
नई दिल्ली: दिल्ली में निर्भया कांड   के पांच साल बाद राष्ट्रीय राजधानी महिलाओं के लिए दिल्ली कितनी सुरक्षित हुई हैं? 16 दिसंबर की रात पांच दरिंदों ने 23 वर्षीया निर्भया के साथ क्रूरतम तरीके से सामूहिक दुष्कर्म किया था. निर्भया ने मौत से 13 दिन तक जूझते हुए इलाज के दौरान सिंगापुर में दम तोड़ दिया था. इस भयानक हादसे के बाद राजधानी को 'दुष्कर्म की राजधानी' की संज्ञा दी जाने लगी. क्या महिलाओं के लिए दिल्ली अब सुरक्षित है? आपराधिक आंकड़ों में तो इसकी पुष्टि होती नहीं दिखती. दिल्ली और इसके आसपास के क्षेत्रों में रह रही और काम कर रहीं महिलाएं केंद्र और राज्य सरकारों के महिला सुरक्षा के दावों के विपरीत खुद को यहां सुरक्षित महसूस नहीं करतीं.

निर्भया गैंगरेप: SC ने कहा- हमने हिमालय जैसे सब्र के साथ सुना पूरा केस, बहस की 10 बातें

राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो (एनसीआरबी) द्वारा 2016-17 के जारी आंकड़ों के मुताबिक, दिल्ली में अपराध की उच्चतम दर 160.4 फीसदी रही, जबकि इस दौरान अपराध की राष्ट्रीय औसत दर 55.2 फीसदी है. इस समीक्षाधीन अवधि में दिल्ली में दुष्कर्म (2,155 दुष्कर्म के मामले, 669 पीछा करने के मामले और 41 मामले घूरने) के लगभग 40 फीसदी मामले दर्ज हुए. 

निर्भया' कांड के बाद 'बलात्‍कार' की वीभत्‍सता को दिखाती 5 फिल्‍में, जिन्‍होंने उस चीख को आवाज दी...

विभिन्न पृष्ठभूमि की कुछ महिलाओं से इस बारे में बात की कि वे दिल्ली में कितना सुरक्षित महसूस करती हैं. नोएडा में काम कर रहीं हरियाणा की सुमित्रा गिरोत्रा दिल्ली के पॉश इलाकों में भी खुद को सुरक्षित महसूस नहीं करतीं. वह कहती हैं, "दिन-दहाड़े महिलाओं के साथ छेड़छाड़ की खबरें अजीब लगती हैं, लेकिन दिल्ली की सड़कों पर उनका मौखिक रूप से उत्पीड़न और दुष्कर्म की धमकियां अजीब नहीं, बल्कि आम बात हो गई है. मैं भी कई बार इसकी शिकार रही हूं." 

बलात्कारियों की चमड़ी उधेड़ कर सड़क पर जुलूस निकालना चाहिए : आंध्र प्रदेश महिला आयोग

गुरुग्राम की 24 वर्षीया डिजाइनर उत्कर्षा दीक्षित का कहना है कि रात नौ बजे के बाद घर से बाहर रहना महिलाओं के लिए भयावह है. वह कहती हैं, "आपको नहीं पता कि आपके साथ खड़ा या आपको घूर रहा कौन सा शख्स आपके साथ क्या छेड़खानी कर दे. ऑटो या कैब लेना भी आजकल खतरे से खाली नहीं है. मैं पेपरस्प्रे के बगैर सफर नहीं कर सकती. मेरी खुद की सुरक्षा के लिए यह जरूरी है. मैं पुलिस पर भी निर्भर नहीं रह सकती, क्योंकि ज्यादातर समय उनका हेल्पलाइन नंबर काम ही नहीं करता." 

वीडियो : क्यों नहीं रुक रहे महिलाओं के ख़िलाफ़ अपराध?

एक विज्ञापन कंपनी ईकोएड की आर्ट डिजाइनर सुकन्या घोष (28) कहती हैं कि अकेले सफर करने में दिन के समय भी डर होता है. वह कहती हैं, "मैं रात के समय लड़कियों के साथ भी बाहर जाने की नहीं सोच सकती. मैं सुरक्षा के लिए हमेशा अपने साथ पुरुष मित्र के रहने को अधिक तवज्जो देती हूं.

इनपुट : आईएनएस


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement