NDTV Khabar

जामिया के पांच शिक्षकों के अनुसंधान प्रस्तावों को सरकार की स्पार्क योजना से मंजूरी

स्पार्क समिति ने पहले राउंड में 24 देशों के 150 विदेशी संस्थानों में 199 संयुक्त अनुसंधान प्रस्तावों को मंजू़री दी

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
जामिया के पांच शिक्षकों के अनुसंधान प्रस्तावों को सरकार की स्पार्क योजना से मंजूरी
नई दिल्ली:

जामिया मिल्लिया इस्लामिया के पांच अध्यापकों के अनुसंधान एवं विकास प्रस्तावों को मानव संसाधन विकास मंत्रालय की एसपीएआरसी (स्पार्क) योजना के तहत मंज़ूरी दी गई है. किसी केन्द्रीय विश्वविद्यालय के अनुसंधान प्रस्तावों को यह सबसे अधिक संख्या में मिलने वाली मंजूरी है.

स्पार्क समिति ने अपनी बैठक के पहले राउंड में 24 देशों के 150 विदेशी संस्थानों में 199 संयुक्त अनुसंधान प्रस्तावों को मंजू़री दी. विश्व के अन्य प्रतिष्ठित विश्वविद्यालयों के साथ भारतीय उच्च शिक्षा संस्थानों के अनुसंधान कार्यो का नेटवर्क स्थापित करने के लिए भारत सरकार ने ग्लोबल इनिशियेटिव फॉर एकेडमिक नेटवर्क्स ( ज्ञान) नामक कार्यक्रम की 2015 में शुरुआत की थी. ज्ञान के कामकाज का जायज़ा लेने के बाद भारत सरकार ने भारत के उच्च शैक्षिक संस्थानों और वैश्विक विश्वविद्यालयों के साथ संयुक्त अनुसंधान का प्रसार करने का निर्णय किया.

जामिया के जिन पांच अनुसंधान प्रस्तावों को इस बैठक में मंज़ूरी मिली हैं उनमें कैमिस्ट्री विभाग की साईक़ा इकराम का अनुसंधान विषय ‘मटिरीअल डेराइवड फ्राम बायोमास टुवडर्स सस्टेनेबल डेवलपमेंट ‘ शामिल है. यह आस्ट्रेलिया की क्वींसलैंड यूनिवसिर्टी के प्रो डैरन मार्टिन के साथ होगा.


टिप्पणियां

इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग विभाग के डा एहतेशाम हक़ का अनुसंधान डेनमार्क के अलबोर्ग विश्वविद्यालय के प्रो फ्रे ब्लाबजर्ग के साथ होगा. सेंटर फॉर मीडिया एंड गवर्नेंस के प्रो बिस्वाजीत दास के अनुसांधान का विषय है ‘क्रिटिकल पोस्ट मीडिया स्टडीज़ इन एशिया. यह दक्षिण कोरिया के क्यूंग ही विश्वविद्यालय के प्रो अलेक्स ताएक ग्वांग के साथ होगा. ॉ

सेंटर ऑफ बायोटेक्नोलॉजी के प्रो मुहम्मद ज़ाहिद का अनुसंधान नेशनल सिंगापुर विश्वविद्यालय के डॉ मानवेन्द्र सिंह के साथ होगा. अंग्रेजी विभाग की प्रो निशात ज़ैदी के अनुसंधान का विषय है ‘डिजिटल एप्रिहेन्शन ऑफ पोएटिक्स. ‘ यह अनुसंधान अमेरिका के मिशिगन विश्वविद्यालय के डॉ एलेक्जेंडर सीन प्यू के साथ होगा.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement