दिल्ली में दो गुटों में बंटे सफाई कर्मचारी, एक गुट हड़ताल पर तो दूसरा काम पर लौटा

दिल्ली में दो गुटों में बंटे सफाई कर्मचारी, एक गुट हड़ताल पर तो दूसरा काम पर लौटा

सफाई कर्मचारियों की हड़ताल के चलते दिल्ली कूड़े के ढेर में बदल गई थी

नई दिल्ली:

दिल्ली में सफाई कर्मचारियों की चल रही हड़ताल को लेकर अभी भी स्थिति साफ नहीं हो पाई है. नगर निगम के कर्मचारियों के एक वर्ग ने जहां कल हड़ताल समाप्ति की घोषणा कर दी थी, वहीं एक अन्य दल ने आज भी हड़ताल को जारी रखा.
इस बीच नगर निकाय के अधिकारियों ने कहा कि बुधवार को 1,800 मिट्रिक टन कचरा उठवाया गया है.

पूर्वी दिल्ली नगर निगम (ईडीएमसी) में करीब 17,000 सफाई कर्मचारी कार्यरत हैं, जिनमें से 15,000 पूर्णकालीक कर्मचारी हैं. बीते सप्ताह वेतन न मिलने से नराज कर्मचारियों ने हड़ताल की घोषणा कर दी थी. हड़ताल के चलते पूरा यमुना पार इलाका गंदगी के ढेर में बदल गया था.

दिल्ली सरकार और नगर निगम के मतभेद के चलते कर्मचारियों के वेतन को लेकर काफी खींचातानी भी हुई. आखिरकार दिल्ली सरकार ने वेतन के लिए एक तय धनराशि नगर निगम के खाते में जमा करा दी. सरकार के इस कदम के बाद कुछ हड़ताली कर्मचारियों ने हड़ताल से वापसी कर शहर की साफ-सफाई का काम शुरू कर दिया, लेकिन अभी भी तमाम जगहों पर कूड़े के अंबार लगे हुए हैं.

नगर निगम से मिली जानकारी के मुताबिक कर्मचारियों के एक धड़े को छोड़कर सभी कर्मचारी काम पर वापस लौट आए हैं और उन्होंने 1,800 मिट्रिक टन कचरे का निष्पादन किया. करीब 58 ट्रकों को मंगलवार की रात काम पर लगाया गया था, जबकि सुबह 72 और दोपहर में 65 ट्रक कचरा उठाने में जुटे थे.

उधर, भारतीय मजदूर संघ से जुड़े एमसीडी स्वच्छता कर्मचारी यूनियन का कहना है कि हड़ताल अभी भी जारी है.
यूनियन के अध्यक्ष संजय गहलोत ने बताया कि उनके साथी बुधवार को भी हड़ताल पर रहे और कर्मचारियों ने विरोध स्वरूप दिल्ली विधानसभा के अध्यक्ष राम निवास गोयल के कैम्प कार्यालय के सामने कचरा डाला.

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com