NDTV Khabar

पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त ने दिल्ली विश्वविद्यालय को EVM मशीन देने से मना किया था

एनडीटीवी ने पड़ताल कि तो पाया कि दिल्ली विश्वविद्यालय ने छात्रसंघ चुनाव कराने के लिए  2010 में चुनाव आयोग से ईवीएम  लेने की कोशिश की थी

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त ने दिल्ली विश्वविद्यालय को EVM मशीन देने से मना किया था

फाइल फोटो

नई दिल्ली:
टिप्पणियां
दिल्ली विश्वविद्यालय छात्रसंघ चुनाव में ईवीएम की खराबी के चलते मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल समेत अजय माकन ने सवाल उठाए हैं कि दिल्ली विश्वविद्यालय ने कैसे ईवीएम खरीद ली थी. लेकिन जब एनडीटीवी ने पड़ताल कि तो पाया कि दिल्ली विश्वविद्यालय ने छात्रसंघ चुनाव कराने के लिए  2010 में चुनाव आयोग से ईवीएम  लेने की कोशिश की थी लेकिन उस वक्त विश्वविद्यालय को मशीन देने से मना कर दिया था.  पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त नवीन चावला ने एनडीटीवी को बताया कि 2010 या 2009 में दिल्ली विश्वविद्यालय चुनाव आयोग से मशीनें लेना चाहता था लेकिन चुनाव आयोग ने ईवीएम देने से मना कर दिया था. नवीन चावला ने सुझाव दिया था कि ईवीएम मशीन दो कंपनियां ईसीआईएल और बीआईएल बनाती हैं जो कि सार्जनिक उपक्रम की कंपनियां हैं. दिल्ली विश्वविद्यालय को इन कंपनियों से बात करनी चाहिए.
 
DUSU Election Results: जब नोटा को मिले AAP के छात्र संगठन के प्रत्याशियों से ज्यादा वोट

इस बारे में जब एनडीटीवी ने पड़ताल की तो  पता चला कि दिल्ली विश्वविद्यालय ने करीब 10 से 12 साल पहले ये ईवीएम ईसीआईएल कंपनी से खरीदी थी.  उल्लेखनीय है कि ईवीएम मशीन दो पब्लिक प्राइवेट कंपनियां बीईएल और ईसीआईएल ही बनाती हैं. ईवीएम कोई भी प्राइवेट कंपनी नहीं बनाती है.
 
दिल्ली विश्वविद्यालय छात्रसंघ चुनाव में एबीवीपी का परचम​

वहीं ईसीआईएल के एक अधिकारी ने एनडीटीवी से अनौपचारिक बात करते कहा कि  10 से 12 साल पहले ईवीएम  मशीन दिल्ली विश्वविद्यालय ने खरीदी थी. उस वक्त ईवीएम खरीदने के लिए किसी तरह की इजाजत लेने की जरुरत नहीं होती थी लेकिन 2014-2015 में नए नियम के मुताबिक अब चुनाव आयोग की इजाजत से ही ईवीएम खरीदी जा सकती है.  
हालांकि दिल्ली विश्वविद्यालय ईवीएम पर कोई बात नहीं करना चाहता है लेकिन सूत्रों ने बताया कि मशीन खासी पुरानी हो चुकी है इसी के चलते स्क्रीन डिस्प्ले खराब होना या दस नंबर बटन को हटाने में कहीं लापरवाही हुई इसके चलते अनजाने में छात्रों ने दस नंबर के बटन को दबा दिया था. इस नंबर पर 40 वोट पड़ गए थे जिस पर एनएसयूआई ने आरोप लगाया कि ईवीएम छेड़छाड़ की गई है. 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement