NDTV Khabar

दिल्ली में यमुना खतरे के निशान से ऊपर, निचले इलाकों से लोगों को सुरक्षित जगहों पर ले जाया जा रहा

हथिनीकुंड बैराज पर यमुना नदी का जल स्तर 90,000 क्यूसेक के खतरे के निशान को पार कर आज सुबह नौ बजे 2.11 लाख क्यूसेक तक पहुंच गया. 

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
दिल्ली में यमुना खतरे के निशान से ऊपर, निचले इलाकों से लोगों को सुरक्षित जगहों पर ले जाया जा रहा

यमुना में अभी और पानी बढ़ने की आशंका है

नई दिल्ली:

दिल्‍ली में यमुना का जल स्तर खतरे के निशान को पार कर गया है और शनिवार शाम पांच बजे यह 205.20 मीटर तक पहुंच गया. इस स्थिति के मद्देनजर अधिकारी अब निचले इलाकों से लोगों को निकालकर सुरक्षित जगहों पर पहुंचाने के काम में जुट गए हैं. इस बीच, हरियाणा के यमुनानगर जिले में भी हाई अलर्ट जारी कर दिया गया है. अधिकारियों ने बताया कि हथिनीकुंड बैराज पर यमुना नदी का जल स्तर 90,000 क्यूसेक के खतरे के निशान को पार कर गया और शाम पांच बजे तक 5,03,935 क्यूसेक पानी छोड़ा गया. लगातार हो रही बारिश के कारण नदी का जल स्तर और बढ़ने की आशंका है. एक अधिकारी ने बताया कि पुरानी दिल्ली रेलवे पुल पर यमुना नदी का जल स्तर शाम पांच बजे तक बढ़कर 205.20 मीटर हो गया और इसमें और बढ़ोतरी होने की आशंका है. शनिवार सुबह जारी एक बयान में कहा गया था, ‘‘दिल्ली के पुराने रेलवे पुल पर यमुना नदी का जल स्तर 28 जुलाई की सुबह सात बजे 204.92 मीटर तक पहुंच गया था, जो खतरे के निशान से ऊपर है. जल स्तर में और वृद्धि हो रही है.’’

बारिश का कहर : उत्तर प्रदेश में बीते 60 घंटों में 43 लोगों की मौत, दिल्ली में बाढ़ का अलर्ट


एक अधिकारी ने बताया कि यमुना नदी के खतरे के निशान को पार करने के बाद शुक्रवार को चेतावनी जारी की गयी थी. बयान के मुताबिक, ‘‘सभी कार्यपालक इंजीनियरों/क्षेत्र के अधिकारियों को पानी जारी करने, पुराने रेलवे पुल पर जलस्तर और केंद्रीय जल आयोग/एमईटी के परामर्श या पूर्वानुमान के बाबत नियंत्रण कक्ष से लगातार संपर्क में रहने और उचित उपाय करने का अनुरोध किया गया है ताकि बाढ़ जैसी स्थिति से बचा जा सके.’’ परामर्श में कहा गया, ‘‘केंद्रीय जल आयोग, ऊपरी यमुना संभाग-नई दिल्ली ने दिल्ली रेलवे पुल (उत्तरी दिल्ली) के लिए बाढ़ का पूर्वानुमान जारी किया है. दिल्ली रेलवे पुल पर पानी का स्तर 28 जुलाई को सुबह नौ बजे 205 मीटर था (चेतावनी का स्तर 204.00 मीटर है).’’

पश्चिमी उत्तर प्रदेश और इसके पड़ोसी इलाकों पर कम दबाव का क्षेत्र बना हुआ है. भारतीय मौसम विभाग ने बताया कि इससे उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश, हरियाणा, चंडीगढ़, दिल्ली और उत्तर-पश्चिमी मध्य प्रदेश में अगले दो दिनों के दौरान बारिश होगी और कहीं-कहीं पर ‘भारी से लेकर बहुत भारी बारिश’ होने की संभावना है. इस बीच, हरियाणा के यमुनानगर में यमुना नदी का जल स्तर पांच लाख क्यूसेक को पार करने के बाद जिला प्रशासन ने हाई अलर्ट जारी कर दिया है.

यमुना का जलस्तर काफी बढ़ा, जलस्तर खतरे के निशान के करीब

हरियाणा और हिमाचल प्रदेश में लगातार हो रही बारिश के कारण यमुना नदी के जल स्तर में इतनी बढ़ोतरी हुई है. बहरहाल, हालात को नियंत्रण में बताते हुए जिला प्रशासन ने कहा कि बाढ़ जैसे हालात से निपटने के लिए सारे जरूरी इंतजाम किए गए हैं. यमुनानगर के उपायुक्त गिरीश अरोड़ा ने बताया, ‘‘यमुना नदी का जलस्तर अभी 5.25 लाख क्यूसेक के निशान को छू चुका है और हम हालात पर लगातार नजर रख रहे हैं.’’

टिप्पणियां

उन्होंने बताया, ‘‘हमने जिले के 70 से ज्यादा गांवों को सतर्क कर रखा है. इसके अलावा, करनाल, पानीपत और सोनीपत में जिला प्रशासन को यमुना नदी के जल स्तर में बढ़ोतरी की सूचना दी गई है.’’ अधिकारियों ने दिल्ली प्रशासन को भी जल स्तर में बढ़ोतरी को लेकर आगाह किया है. यमुना नदी के आसपास रहने वाले लोगों के लिए चेतावनी जारी की गई है.

(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान प्रत्येक संसदीय सीट से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरों (Election News in Hindi), LIVE अपडेट तथा इलेक्शन रिजल्ट (Election Results) के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement