NDTV Khabar

निर्भया के दोषियों को फांसी देने में देर क्यों? दिल्ली महिला आयोग ने तिहाड़ जेल को नोटिस भेजा

सुप्रीम कोर्ट में दोषियों की पुनर्विचार याचिका को ख़ारिज हुए दो महीने बीत गए हैं मगर अभी तक दोषियों को फांसी नहीं हुई

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
निर्भया के दोषियों को फांसी देने में देर क्यों?  दिल्ली महिला आयोग ने तिहाड़ जेल को नोटिस भेजा

दिल्ली महिला आयोग ने तिहाड़ जेल को नोटिस भेजा है.

खास बातें

  1. स्वाति मालीवाल ने कहा- ‘रेप कैपिटल’ के नाम से बदनाम है दिल्ली
  2. अपराधियों के मन में कानून का कोई खौफ नज़र नहीं आता
  3. डर पैदा करने के लिए निर्भया के कातिलों को जल्द फांसी पर चढ़ाया जाए
नई दिल्ली: दिल्ली महिला आयोग ने ‘निर्भया’ के बलात्कार और हत्या के अपराधियों की फांसी में देरी होने के मामले में तिहाड़ जेल के अधिकारियों को नोटिस भेजा है. 

साल 2012 में चलती बस में ‘निर्भया’ का बर्बर बलात्कार और हत्या हुई थी. इस मामले ने पूरे देश को झगझोर के रख दिया था.  इस मामले में उच्चतम न्यायालय ने 4 अभियुक्तों को दोषी ठहराया था और 5 मई.2017 को 4 लोगों को फांसी की सज़ा सुनाई थी. इस मामले में दोषियों ने उच्चतम न्यायालय में पुनर्विचार याचिका दाखिल की थी जिसे 9 जुलाई 2018 को उच्चतम न्यायालय ने ख़ारिज कर दिया था.

यह भी पढ़ें : Nirbhaya Rape Case: सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद जानिये क्या कहा निर्भया की मां ने, देखें VIDEO

दोषियों की पुनर्विचार याचिका को ख़ारिज हुए 2 महीने हो गए हैं मगर अभी तक दोषियों को फांसी नहीं हुई है. इस विषय में दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने तिहाड़ जेल के डिप्टी इंस्पेक्टर जनरल को नोटिस जारी किया है और उनसे इसकी वजह पूछी है. उनसे यह सूचना देने को कहा गया है कि क्या दोषियों को फांसी देने के लिए जेल अधिकारियों ने कोई आदेश पारित किया है या नहीं. अगर नहीं तो उसके कारणों की सूचना देने को कहा गया है. जेल अधिकारियों से 15 सितंबर 2018 तक जवाब देने को कहा गया है.

टिप्पणियां
VIDEO : निर्भया के दोषियों को फांसी ही मिलेगी

दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने कहा, “निर्भया के बलात्कार और हत्या को 6 साल के लगभग हो गए हैं. इस घटना ने पूरे देश को झकझोर दिया था. पूरे देश के लोगों के सड़कों पर आने के बावजूद बलात्कार के मामले तब से बढ़े ही हैं. हमारे देश की राजधानी दिल्ली, आज विश्व में ‘रेप कैपिटल’ के नाम से बदनाम है. 11 महीने की छोटी बच्चियों के साथ भी दिल्ली में बलात्कार हो रहे हैं. बढ़ते अपराधों की मुख्य वजह यह है कि इस व्यवस्था में इनको रोकने के लिए कड़े उपाय नहीं हैं. अपराधियों के मन में कानून का कोई खौफ नज़र नहीं आता. इसलिए यह बहुत जरूरी है कि इन अपराधियों के मन में डर पैदा करने के लिए निर्भया के कातिलों को जल्द से जल्द फांसी पर चढ़ाया जाए. निर्भया और उसके माता-पिता को न्याय मिलना चाहिए.”


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement