NDTV Khabar

बवाना विधानसभा उपचुनाव : आम आदमी पार्टी को है अब दिल्ली में एक जीत की दरकार, नहीं तो....

असल मे यह चुनाव अगर किसी एक शख्स के लिए सबसे ज़्यादा अहम है या यूं कहें कि भविष्य का सवाल है तो वो हैं दिल्ली के सीएम और आम आदमी पार्टी के सर्वोच्च नेता अरविंद केजरीवाल. 

590 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
बवाना विधानसभा उपचुनाव : आम आदमी पार्टी को है अब दिल्ली में एक जीत की दरकार, नहीं तो....

अरविंद केजरीवाल ( फाइल फोटो )

खास बातें

  1. दिल्ली में लगातार 5 चुनाव हार चुकी है 'आप'
  2. विधानसभा चुनाव के बाद नहीं जीती पार्टी
  3. बवाना में झोंक रखी थी पूरी ताकत
नई दिल्ली: दिल्ली में बवाना विधानसभा सीट  के लिए मतदान शुरू हो गया है. बीजेपी, कांग्रेस और सत्ताधारी आम आदमी पार्टी तीनों ही पार्टियों ने अपने प्रचार में पूरी ताकत झोंक रखी थी. असल मे यह चुनाव अगर किसी एक शख्स के लिए सबसे ज़्यादा अहम है या यूं कहें कि भविष्य का सवाल है तो वो हैं दिल्ली के सीएम और आम आदमी पार्टी के सर्वोच्च नेता अरविंद केजरीवाल. 

क्यों है बवाना केजरीवाल के भविष्य का सवाल 
फरवरी 2015 में दिल्ली विधानसभा की 70 में 67 सीट जीतने की ऐतिहासिक घटना के बाद से आम आदमी पार्टी या तो चुनाव हार रही है या उम्मीद और दावे के मुताबिक प्रदर्शन नही कर पा रही है. सिलसिलेवार तरीके से देखें तो 

1. सितंबर 2015 में दिल्ली यूनिवर्सिटी छात्रसंघ चुनाव में आम आदमी पार्टी की छात्र इकाई दूसरे, तीसरे और चौथे नंबर पर रही. 
2. अप्रैल 2016 में हुए नगर निगम उपचुनाव में वोट शेयर में दूसरे नंबर पर रही. 
3. मार्च 2017 में पंजाब और गोवा विधानसभा चुनाव में उम्मीद के मुताबिक प्रदर्शन नही कर पाई. पंजाब में दूसरे नंबर पर रही और गोवा में खाता भी नहीं खुला.
4. अप्रैल 2017 में राजौरी गार्डन उपचुनाव में ज़मानत ज़ब्त हो गई. 
5. अप्रैल 2017 में ही दिल्ली नगर निगम में बीजेपी के हाथों बुरी तरह हारी. 
 

इस हार का नतीजा ये हुआ कि पार्टी में व्याप्त असंतोष और आपसी मतभेद खुलकर सामने आने लगे और सवाल उठने लगे कि क्या अब अरविंद केजरीवाल का तिलिस्म टूट रहा है और पार्टी बिखर रही है?  इन सब को ध्यान में रखते हुए समझा जा सकता है कि अरविंद केजरीवाल को अपना आभामंडल और साख बनाये रखने के लिए बवाना विधानसभा उपचुनाव जीतना ही होगा. क्योंकि अब एक और हार दिल्ली में मौजूदा आप सरकार को अलोकप्रिय घोषित कर देगी क्योंकि आम तौर पर उपचुनाव सत्ताधारी जीतती हैं.

पढ़ें : बवाना उपचुनाव : कौन मारेगा बाजी - बीजेपी, आप व कांग्रेस से कौन-कौन हैं मैदान में...


Video : केजरीवाल की प्रतिष्ठा का सवाल​


 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement