NDTV Khabar

दिल्ली के वायु प्रदूषण के सुधार में मौसम ने दिया साथ, मंगलवार को प्रदूषण में दिखी गिरावट

वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) के मुताबिक मंगलवार को दिल्ली में वायु प्रदूषण का स्तर ‘गंभीर’ और ‘बहुत खराब’ श्रेणी में दर्ज किया गया.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
दिल्ली के वायु प्रदूषण के सुधार में मौसम ने दिया साथ, मंगलवार को प्रदूषण में दिखी गिरावट

दिल्ली में प्रदूषण के स्तर में आई गिरावट

नई दिल्ली:

दिल्ली में पिछले एक सप्ताह से जारी वायु प्रदूषण के गंभीर संकट से राहत दिलाने में मंगलवार को मौसम ने मददगार बनते हुये हवा की गति में इजाफे के कारण दूषित तत्वों की धुंध से राहत दी. वहीं दिल्ली के प्रदूषण पर उच्चतम न्याय की सख्त टिप्पणी के बाद प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने उत्तर भारत में वायु प्रदूषण की समस्या से निपटने के लिये किये जा रहे उपायों की समीक्षा की. वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) के मुताबिक मंगलवार को दिल्ली में वायु प्रदूषण का स्तर ‘गंभीर' और ‘बहुत खराब' श्रेणी में दर्ज किया गया. साथ ही सोमवार को पंजाब और हरियाणा में पराली जलाने की घटनायें पिछले एक महीने में सर्वाधिक होने के बावजूद दिल्ली में हवा की गति में इजाफे के कारण दूषित तत्वों की धुंध दिल्ली के वायुमंडल में टिक नहीं सकी.

Delhi-NCR में प्रदूषित ईंधन से चलने वाले उद्योग आठ नवंबर तक रहेंगे बंद: EPCA


वायु प्रदूषण पर निगरानी से जुड़ी पर्यावरण मंत्रालय की संस्था ‘सफर' के अनुसार सोमवार को दिल्ली के पड़ोसी राज्यों में पराली जलाने की 4962 घटनायें दर्ज की गयी. सोमवार और मंगलवार को दिल्ली में हवा की गति 40 किमी प्रति घंटा तक होने के कारण दिल्ली के वायु प्रदूषण में पराली जलाने का योगदान 14 प्रतिशत दर्ज किया गया. मंगलवार को यह घटकर 12 प्रतिशत रह गया. इस बीच उत्तर प्रदेश, पंजाब और हरियाणा में पराली जलाने पर तत्काल रोक लगाये जाने के सोमवार को उच्चतम न्यायालय के आदेश के बाद मोदी ने उत्तर भारतीय राज्यों में वायु प्रदूषण की स्थिति की समीक्षा की. शीर्ष अदालत ने दिल्ली के वायु प्रदूषण में उत्तर प्रदेश, पंजाब और हरियाणा में पराली जलाने की घटनाओं का 46 प्रतिशत योगदान होने का हवाला देते हुये इन घटनाओं पर पूरी तरह से तत्काल रोक लगाने का आदेश दिया था.

टिप्पणियां

Delhi Pollution: प्रदूषण से निपटने के लिए PMO ने की समीक्षा बैठक, इन मुद्दों पर हुई चर्चा

मंगलवार को भी उच्चतम न्यायालय ने वायु प्रदूषण के संकट पर कड़ा रुख अपनाते हुये दिल्ली के मुख्य सचिव विजय कुमार देव को तलब किया है. न्यायालय ने कहा कि इस क्षेत्र में प्रदूषण के खतरनाक स्तर की वजह से जीवन अवधि घटने की ओर इशारा करने वाले वैज्ञानिक आंकड़ों की वजह से बड़े पैमाने पर लोगों को पलायन करने के लिये मजबूर नहीं किया जा सकता है. कृषि मंत्रालय ने पंजाब, हरियाणा और उत्तर प्रदेशे में पराली जलाने की घटनाओं में एक अक्टूबर से तीन नवंबर के बीच पिछले साल इसी अवधि की तुलना में 12.1 प्रतिशत गिरावट आने का दावा किया है. मंत्रालय द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार उत्तर प्रदेश में इन घटनाओं में 48.2 प्रतिशत, हरियाणा में 11.7 प्रतिशत और पंजाब में 8.7 प्रतिशत गिरावट आई है. 



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement