14 वर्षीय 'निर्भया' हार गई जिंदगी की जंग, मां का आरोप - मेरे अन्‍य बच्‍चों को भी मिल रहीं धमकियां

14 वर्षीय 'निर्भया' हार गई जिंदगी की जंग, मां का आरोप - मेरे अन्‍य बच्‍चों को भी मिल रहीं धमकियां

NDTV से बात करती पीड़ि‍ता की मां

खास बातें

  • लड़की का आरोप था कि उसे जूस में एसिड मिलाकर पीने को मजबूर किया गया
  • 'हमलावर मेरे बच्‍चों को धमका रहे हैं, उन्‍होंने बाहर जाना बंद कर दिया'
  • इस लड़की को सबसे पहले दिसंबर में यौन प्रताड़ना का शिकार बनाया गया
नई दिल्‍ली:

देश की राजधानी दिल्‍ली में गैंगरेप की शिकार 14 वर्षीय दलित लड़की की रविवार को मौत हो गई। वर्ष 2012 के 'निर्भया कांड' जैसे इस मामले में यह लड़की एक माह से अधिक समय से लाइफ सपोर्ट पर थी। लड़की को एसिड पीने के लिए मजबूर किया गया था।

अस्‍पताल के बिस्‍तर से मृत्‍यु पूर्व बयान में इस लड़की ने आरोप लगाया था कि उसे बुरी तरह पीटा गया और दिन में कई बार उसके साथ रेप किया गया। यही नहीं, जूस में एसिड मिलाकर उसे इसे पीने को मजबूर किया गया। लड़की के अनुसार, उसके हाथ-पैर बंधे थे और उसे खाना भी नहीं दिया गया। इस लड़की की मां ने सोमवार को NDTV से बात करते हुए आरोप लगाया, 'मेरी बेटी को चाकू से मारने की धमकी दी गई...वह डरी हुई थी। अब हमलावर मेरी एक अन्‍य बेटी और मेरे बेटे को धमका रहे हैं और मेरा बेटा 10 दिन से स्‍कूल नहीं जा रहा है।'

इस लड़की को सबसे पहले दिसंबर में यौन प्रताड़ना का शिकार बनाया गया। आरोपी शिवशंकर, इस किशोरी के पड़ोस में ही रहता है। शिवशंकर को गिरफ्तार भी किया गया था लेकिन बाद में जमानत पर छोड़ दिया गया। इस किशोरी, जिसके माता-पिता अस्‍पताल में सफाईकर्मी हैं, को मई में उसके घर से कथित तौर पर आरोपी ने फिर अगवा कर लिया। रेप मामले की सुनवाई के पहले इस काम को अंजाम दिया गया था। लड़की की मां ने बताया, 'हम 12 दिन तक उसकी तलाश करते रहे। जब मेरी घर वापस आई उसके पूरे शरीर पर चोट के निशान थे।वह खून की उल्‍टी कर रही थी और उसका मुंह, सीना और हाथ-पैर काले कर दिये गये थे।'

मां के अनुसार, आरोपी का परिवार अब मेरे बेटे को अगवा करने की धमकी दे रहा है। मां ने बताया, परिजनों ने मेरी बेटी को धमकी दी थी कि यदि उसने कोर्ट में कुछ खुलासा किया तो वे उसके पिता और मां को मार देंगे। दूसरी ओर, पुलिस का दावा है कि लड़की रेप से इनकार कर रही थी और बार-बार बयान बदल रही थी। पुलिस सूत्रों ने कहा, 'एक मेडिकल बोर्ड मामले की जांच करेगा।'

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


इस बीच, इस पूरे मामले में दिल्‍ली महिला आयोग की अध्‍यक्ष स्‍वाति मालीवाल ने दिल्‍ली पुलिस पर आरोपियों को गिरफ्तार नहीं करने का आरोप लगाया है। स्‍वाति ने रविवार को एक ट्वीट में कहा, 'दिल्‍ली आखिरकार कितनी 'निर्भया' चाहता है।' महिला आयोग की प्रमुख ने लड़की के परिजनों के इस आरोप का समर्थन किया कि उसे (लड़की को) आरोप वापस लेने के लिए मजबूर किया गया। स्‍वाति मालीवाल ने कहा, 'मैं इस बात से इनकार नहीं कर रही कि कोर्ट और पुलिस के समक्ष उसने कई बार बयान को बदला और वापस लिया। इस बारे में विस्‍तृत जांच की जरूरत है।'