Hindi news home page

आम आदमी पार्टी की मांग मनोज तिवारी के खिलाफ महिला आयोग कार्यवाही करे

ईमेल करें
टिप्पणियां
आम आदमी पार्टी की मांग मनोज तिवारी के खिलाफ महिला आयोग कार्यवाही करे

मनोज तिवारी द्वारा एक कार्यक्रम में शिक्षिका को डांटने का मामला सामने आया है (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: आम आदमी पार्टी ने दिल्ली भाजपा अध्यक्ष मनोज तिवारी द्वारा एक महिला शिक्षक को अपमानित करने के कथित मामले में सरकार से जांच कराने और सख्त कार्रवाई करने की मांग की है. भोजपुरी अभिनेता और सांसद मनोज तिवारी का एक वीडियो सामने आया है जिसमें वह एक शिक्षिका को मंच पर डांट रहे हैं. बातचीत से प्रतीत होता है कि शिक्षिका ने उनका मंच पर अभिनंदन करने के बाद उनसे गाना गाने का निवेदन किया था जिस पर तिवारी भड़क गए.इस वीडियो पर दिल्ली के डिप्टी सीएम और शिक्षा मंत्री ने ट्वीट किया -
 
इस विवाद के बाद दिल्ली बीजेपी अध्यक्ष मनोज तिवारी ने प्रेस कांफ्रेंस बुलाकर सफाई दी और कहा कि 'अपने MPLAD फण्ड से मैंने 2 करोड़ रुपये के सीसीटीवी लगवाने के शिलान्यास का काम शुरू किया था. एंकर ने मुझे बुलाने से पहले ही एक सांसद, एक प्रदेश अध्यक्ष को गाना गाने के लिए बोल दिया. मैंने कुछ बोला भी नहीं, उससे पहले उन्होंने मुझसे कहा गाना गाइये. अगर आप लोगों को लगता है यही मर्यादा होनी चाहिए तो मैं क्षमा प्रार्थी हूं. अगर कोई शिक्षक हो या नेता हो और उसको मर्यादा बताई जाए तो क्या ये गलत है? अगर मनीष सिसोदिया जी कहीं जाएं और एंकर उनसे कहें कि बोलने से पहले से डांस कर दीजिए तो क्या आप इसको सही ठहराएंगे?'

उधर आप की दिल्ली इकाई के संयोजक दिलीप पांडे ने कहा है कि सार्वजनिक मंच पर तिवारी द्वारा महिला शिक्षक को अपमानित करना शर्मनाक है. उन्होंने कहा कि सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे वीडियो में भी तिवारी की हरकत को साफ देखा जा सकता है. पांडे ने वीडियो के हवाले से कहा है कि पीड़ित महिला का कसूर सिर्फ इतना है कि उसने एक कार्यक्रम के दौरान तिवारी से कोई गाना सुनाने का अनुरोध कर दिया था. जाहिर है कि बतौर गायक तिवारी से सार्वजनिक मंच पर इस तरह का अनुरोध किया जाना अनपेक्षित नहीं है. पांडे ने इसे गंभीर मामला बताते हुए राष्ट्रीय एवं दिल्ली महिला आयोग से इस घटना पर संज्ञान ले कर माकूल कार्रवाई करने की मांग की है.

भाजपा द्वारा दिल्ली सरकार की सेवाओं में ‘आम आदमी’ शब्द का इस्तेमाल करने की चुनाव आयोग में शिकायत करने के सवाल पर पांडे ने कहा कि सामान्य बोलचाल की भाषा में आम आदमी शब्द का इस्तेमाल होता है. इसे देखते हुए आम आदमी बस सेवा और आम आदमी मोहल्ला क्लीनिक जैसी सरकारी योजनाएं शुरू की गई हैं. इसे किसी पार्टी के नाम से जोड़ कर नहीं देखा जाना चाहिए. उन्होंने कहा कि इसे आचार संहिता का उल्लंघन बताना भाजपा के राजनीतिक दिवालियेपन का सबूत है.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement

 
 

Advertisement