NDTV Khabar

'आप' ने कहा, एलजी दफ्तर के जरिये दिल्ली को 'तबाह' करना चाहती है भाजपा

आम आदमी पार्टी (आप) ने भाजपा पर आरोप लगाया है कि वह उप-राज्यपाल के कार्यालय का इस्तेमाल दिल्ली सरकार के कामकाज को बाधित करने के लिए कर रही है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
'आप' ने कहा, एलजी दफ्तर के जरिये दिल्ली को 'तबाह' करना चाहती है भाजपा

दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

आम आदमी पार्टी (आप) ने भाजपा पर आरोप लगाया है कि वह उप-राज्यपाल के कार्यालय का इस्तेमाल दिल्ली सरकार के कामकाज को बाधित करने के लिए कर रही है. पार्टी ने यह बात बुनियादी सार्वजनिक सेवाएं लोगों के द्वार पहुंचाने के महत्वाकांक्षी प्रस्ताव को अनिल बैजल के खारिज कर देने के एक दिन बाद कही है. उप-राज्यपाल ने मंगलवार को ड्राइविंग लाइसेंस, जाति प्रमाण पत्र और पानी के कनेक्शन जैसी बुनियादी सार्वजनिक सेवाएं लोगों के द्वार पहुंचाने के दिल्ली सरकार के प्रस्ताव को पुनर्विचार के लिए वापस भेज दिया था. उप-मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने उप-राज्यपाल के कदम को भ्रष्टाचार मुक्त शासन प्रदान करने के दिल्ली सरकार के प्रयासों के लिए 'बड़ा झटका' बताया था. उन्होंने ट्वीट के जरिये भाजपा पर निशाना साधा. उन्होंने आश्चर्य जताया कि भाजपा दिल्ली को क्यों 'तबाह' करना चाहती है.

यह भी पढ़ें : केजरीवाल ने दी निजी स्कूलों को चेतावनी, कहा-मनमानी फीस बढ़ाने पर होगी कार्रवाई


टिप्पणियां

सिसोदिया ने कहा, 'भाजपा समूची दिल्ली में सीलिंग (अभियान) चला रही है. भाजपा ने द्वार पर सेवाएं पहुंचाने के सरकार के प्रस्ताव को खारिज करवा दिया है. भाजपा ने उपराज्यपाल के जरिये मोहल्ला क्लीनिक की फाइल को रोकने का प्रयास किया.' मनीष सिसोदिया ने गुरुवार को उप राज्यपाल अनिल बैजल पर नए सिरे से हमला बोलते हुए पूछा कि क्या वह जन सेवाएं लोगों के घर तक पहुंचाने के आप सरकार के प्रस्ताव को लौटाकर 'भ्रष्ट व्यवस्था' को बचाने की कोशिश कर रहे हैं. सिसोदिया ने कहा कि क्या उप राज्यपाल के पास निर्वाचित सरकार के फैसलों को लौटाने की शक्ति होनी चाहिए? वहीं, मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने भी सिसोदिया का समर्थन किया और कहा कि उन्हें लगता है कि 'प्रगतिशील कदम' को बाधित किया जा रहा है.

VIDEO : उप राज्यपाल ने घर तक सेवा का प्रस्ताव लौटाया
सिसोदिया ने कहा, 'यदि लोगों को अपने घर ही पर सेवाएं मिल जाती हैं तो उपराज्यपाल को क्या समस्या है? उनका नोट पढ़कर मुझे दुख हुआ. क्या वह भ्रष्ट प्रणाली को बचाने के लिए ऐसा कर रहे हैं... इस भ्रष्ट प्रणाली को बचाने में उनका क्या हित है? (इनपुट भाषा से)



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement